श्री जैन सिद्धांत बोल संग्रह : भाग - 7 | Shree Jain Sidhant Bol Sangrah: Bhag 7

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री जैन सिद्धांत बोल संग्रह : भाग - 7 - Shree Jain Sidhant Bol Sangrah: Bhag 7

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भैरोंदान सेठिया - Bhairon Sethiya

Add Infomation AboutBhairon Sethiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
[5] नर्न पव पद्‌ षयौंकटे१ ९८ | ८३ नमरकार सृ्रमे मिद्ध से पहले अरिदृन्त या | | बयों नमस्कार क्या गया १९१ नामफर्म की बयालीस प्रकृतियाँ ९९० (३) निन्य प्रवय महिमा गाथा दे प्‌ ९८३ (६) परमायधि झानी क्या चरम शरीरी হার ই? ९९४ (१४) परिप्रध पा सयगगाधा १६ १८१ ९९३ पुण्यप्रश्नतियाँ बयालीस १५० ९८३ (३१) पुष्य नक्षत्र को श्रे्ठता का वर्णन क्या जन शाख्रों मे भीदे १२६ ५९४ (२०, पृजाग्रशसाक व्यागमाथा १० १९० ५८७ प्रथ्वोक्नाय (सरयाद्र) के चालीस भेद. ६४० १८३ (२७) पृथ्बीकाय रे जीव क्‍या १८ पाप का सेवन करते हैं ९ १२२ ९९७ पेंतालीस आगस २६० १५५ | ५९३ पृष्ठ बोल न० पृष्ठ ९७९ पतौस वाणी फे अतिशय ७१ ९९४ (३६) प्रभाद गाधा १००३१ ५९४ प्रवचन सम्रह वयालीस१५१ ९८३ प्रश्नोत्तरछत्तीस ९८ १८०४ प्रायथ्रित्त के पचास २७१ व ९६८ म्रत्तीस धरस्याप्याय २८ ५६६ वत्तीस सूत्र २१ ९९० पयालीस श्राहार दोष १४९ ५७३ बहुश्रुत पूजा अध्ययन (3० आ० ११) की बत्तीस गाथा! १००७ यावन श्रनाचीरं साघु फ ९६४ मद्ाच५ की चत्तीस उपमा ९९४ (१३) द्र्यचयं शील गया १६ १७५ ९९९ आद्षीलिपि के माहका- करदियालीस. २६४ भ १००३ भागे उनचासश्रावक प्रत्याश्यान के २६७ ९९४ (१६) भ्रमखृत्ति गाया ४ ५८ २४२ १५ १८५




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now