श्रमण भगवन महावीर तथा मांसाहार परिहार | Shraman Bhagwan Mahavir Tatha Mansahar Parihar

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्रमण भगवन महावीर तथा मांसाहार परिहार  - Shraman Bhagwan Mahavir Tatha Mansahar Parihar

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हीरालाल दूगड़ - Hiralal Doogad

Add Infomation AboutHiralal Doogad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१४ अधा अध्यापक घमावर वौशर्ढी कब आरा पटदाग भाई परए महम मगना সুপ এ খাত বা अधि वर जनाामा हचपवयाहिक ঘা आधार ब जिन गृजपारा था भा ऐप মালিল অঘবিযা ঠ পনর इलप्टाहरण र टिए भी পল प्स्ताइसा ম অনা হিশা তাল দল ওয়ায न अवन श्यं टका सरत हत्य रा रवाहार बर “यार प्रतशशार रुप ममनः भ्र सत व्रत दरया उपारीशरए हिया है. यह খাত नदर श्ना ह पवा एसर মা পা সিন পল নিয় ধাপ গর থা $४७ জা তি ম নল ববঙ্গাাতা স শি মহ বিয়া শশা ধা থাখপরিননা নও তই জিত নাপ্য( খাই না হাল কী আর हि. तेरा अध बनस्पर्जिपरर परण द् তাহির ৪ अप हि हमार से लिवर ये का मरा विचह भगवरीं शृत्र ४ विवाश হল মুক্তা ধা अर्थ था रोशशहरए है हर्माष्य दूगर মালমা দা विवाशरबट सूधवाशं वे हरा दा दनरपत्रियरक्ष अपन्यात्र ”ग ही अगरिय परयाष्त समझर # हि सगपरार व डिय इगारा सातर हा बापों है। আশ 8 क्रि পান पाटर লশানামাত था झह रियती सगरएगाप्रदर अबवज समझ में आ सरया नियर र्दा) कस तिराय हर का বা খীশি লারা শিয়াল কল श्राया भीर अयता भपप लम इना उ एत नर গমস্মশ । पारक मरनुमागं ये मात्र इतना ह जनराध ८ हि आप रस नि का रियित प्रशता वे साष শট আল নিপা ববি सवा में हम तर सफ्ता प्राण हुई है। লা কান यहि वाई बटि टब्टियाघर हा तो हम शृत्ति। गरन की $पा ধা तारि अगर सरप रण प्र न्तो धर्मासि क्रन्द जपा जना लया जन पम भ শ্থি আচার সমান বশশাম্বা হল अग्रवात वद्ध লাম पुर्तर एव ए्ाष्टन रूप है । जय तह निप्रभ जैन श्रमणा तथा मरा्रमण निग्गठ नायपुत्त भगवा] थ्रां सरगार स्वामी पर झूगाय गय प्राप्ग मॉंसाहार वे हापबराल वृष्ट दग धम्य में सविता” नया जात सब तक जैन रमाज सा अहिया में निप्शा रखनवारे जब... -कोककरिनिन रे




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now