श्री राइय देवसिक प्रतिक्रमण सूत्र | Shri Raiya Daivsik Pratikraman Sutra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री राइय देवसिक प्रतिक्रमण सूत्र  - Shri Raiya Daivsik Pratikraman Sutra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हीरालाल दूगड़ - Hiralal Doogad

Add Infomation AboutHiralal Doogad

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
सिद्ध भगवान्‌ के श्राठ गुण जिन्होंने झ्ाठ करों का सर्वेथा क्षय कर लिया है, मोक्ष प्राप्त कर लिया है प्रौर जन्म-मरण रहित हो गये हैं उहे सिद्ध कहते हैं । इनके आठ गुरा हैं-- १ अनत्तज्ञा--ज्ञानावरणीय कर्म सर्वथा क्षय होने से केवलज्ञान प्राप्त होता है, इससे सब लोकालोक वा स्वरूप जानते है । २ अनात दर्शन--दशनावरणीय कर्म का सवधा क्षय हो जाने से केवल दशन प्राप्त होता है, इससे लोकालोक के स्वरूप को देखते हैं । ३ अव्यावाध सुख--वेदनीय कर्म का स्वेथा क्षय होने से सब प्रकार वी पीडा रहित मिरुपाधिपना प्राप्त होता है। ४ अनन्त चारित्र--मोह्‌ीय कम सवथा क्षयहोनेसे यह्‌ गण সাল होता है । इसमे क्षायिक सम्यक्त्व श्रौर ययाष्यात चारि का समावेश होता है, इससे सिद्ध भगवान्‌ श्रात्मस्वभाव मे सदा श्रवस्थिति रहते हैं । वहाँ यही चारित्र है ॥ ५ अक्षय स्थिति--पश्रायुप्य कर्मे के क्षय होने से कभी नाश न हो (जम-मरण रहित) ऐसी আসল स्थिति प्राप्त होती है। सिद्ध की स्थिति षीभ्रादि है मगर भरन्त नही है, इससे भादि भनन्त कहे जाते हैं । ६ अदरुपी--नामकम के द्षय होने से वण, गध, रस অনা তা रहित होते हैँ, वयोकि शरीर हो तभी वर्णादि होते हैं। सिद्ध के शरीर नही है इससे झरूपी होते हैं । ও क्षगुरुलछु--योत्र फर्म के क्षय होने से यह ग्रुग्ग प्राप्त होता है, इससे भारी-हल्वा भ्रथवा ऊच-मीच का व्यवहार नही रहता । ८ अनन्तवीर्प--अतराय कमं वा क्षय दोन से धनन्त दान्‌, भ्रमन्त लाभ, भनत भोग, श्रनन्त उपभोग तया भ्ननन्तवौयं प्राप्त होता है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now