यूरोप का आधुनिक इतिहास भाग - २ | Europ Ka Aadhunik Itihas Part - 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : यूरोप का आधुनिक इतिहास भाग - २  - Europ Ka Aadhunik Itihas Part - 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विधार्थी - Student

Add Infomation AboutStudent

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
पारस्मिक शब्द संसार के आधुनिक इतिहास में यूरोप का महत्त्व बहुत श्रधिक है सभ्यता संस्कृति शाम विज्ञान कला-कौशल व्यापार व्यवसाय झादि सभी दोत्रों में यूरोप इस समय संसार का शिरोमणि है | संसार की शान्ति यूरोप की राजनीति पर श्राश्रित है। यूरोप से जो नई लहर शुरू होती है यूरोप में जो घटना घटती है उसका प्रभाव सारे संसार पर पढ़ता है | यूरोप का यह महत्त्व सदा से नहीं चला झा रहा। न ही यूरोप सदैव इतना उज्त रहा है | श्राज से लगभग डेढ़ सदी पूर्व यूरोप की माय चही दशा थी जो भारत चीन ईरान आदि झन्य देशों की थी | सर्वत्र एकतन्त्र स्वेच्छाचारी राजा राज्य करते थे | लोकतन्त्र शासन का कहीं नाम भी न था | कल-कारखानों का विकास नहीं हुमा था | कारीगर श्रपने घर पर त्रैठकर मोटे भद्दे औजारों से कार्य करते थे | रेल मोटर हवाई जहाज तार रेडियो श्रादि का नाम भी कोई नहीं जानता था| यूरोप में जो यह श्रसाधारण उन्नति हुई है वह पिछली डेढ़ सदी की कृति है। यूरोप का यह डेढ़ सदी का इतिहास सचमुच यड़ा श्रदूभुत व आश्चर्यजनक है | इस थोड़े से काल में यूरोप उन्नति की दौड़ में किस अकार इतना झागे बढ़ गया इसकी कहानी चढ़ी मनोरज्ञक श्र शिक्षाप्रद है । इसी श्राश्चर्य जनक उन्नति की कहानी को सरल व स्पष्ट रूप से लिखने का प्रयत्न सैंने इस इतिहास में किया है। ः भारत में यूरोप के इतिहास को पढ़ने का रिवाज बहुत कम है । ब्रिटेन के शासन-काल में यहाँ स्कूलों श्रौर कालिजों में डैंगलैंड का




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now