आनन्दमय जीवन | Anandmay Jeevan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : आनन्दमय जीवन - Anandmay Jeevan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामचरण महेंद्र - Ramcharan Mahendra

Add Infomation AboutRamcharan Mahendra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
आनन्दमय जीवन १५ शेविंगकी (छुगमता) प्रातः चाय तथा चिष्छुटकी चिन्तमि थे तो दूसरे सिगरेट्के लिये उतावले थे। तीसरे नोकरकों पुकार-पुकारकर उनका विस्तर न उठाने ओर चेस्टर न देनेपर परेशान ये, चोथे महोदय टद्धीके स्यि पानी मोग रंहे ये, खयं नहीं लेना चाहते थे। एक महोदय बिस्तरेमे पड़ें-पड़े जाड़िकी शिकायत कर रहे थे। साराश, प्रत्येक अपने कृत्रिम जीवनकी जंजीरोमे जकड़ा पड़ा था और तनिक-सी असुविधासे छटठपणा रहा था । सुखमय जीवन मेरा था; जो नोकरके छोते हुए. भी खययं अपने पॉवो- पर खड़ा दूसरोकी सहययताको प्रस्तुत था । सादगी सबसे बढ़िया फैशन है । ऋत्रिमता और बनावट सबसे अधिक ढुःखदायक है। -“” आर्थिक समस्या आज प्रवेक व्यक्ति ओर परिवारकी सम्या है । जो. कुछ आप कमाते हैं; उससे कम व्यय कीजिये । सम्भव दे आपको : सम्भव है आपको अपनी आवश्यकताएँ कम करनेमे कठिनाइयाँ प्रतीव हों। सच मानिये; आयके अनुसार अपना बजट बनाने ओर नियन्त्रण- करनेवाला व्यक्ति ही सुखी 'रहता है। दृढ़ नियन्त्रण और संयमः है| दृढ़ नियन्त्रण ओर संयमके बलपर प्रत्येक व्यक्ति कुछ बचत अवश्य कर सकता है। आपका सुख आपकी बचतपर निर्भर है--यह मत मूलि । আইজ ই নত इतर जा मजय जोर पर बचतकी योजना घरमें अवश्य रखिये | खय॑ इसपर कार्य कीजिये ओर अपने बच्चोंकी सिखछाइये | ~ सुजनात्मकरूपसे विचार किया कीजिये। अपने-आपको ऐसी शिक्षा दीजिये कि आप स्पष्टतः ओर सचाईसे विचार कर सकं, कब्पनाके मिथ्या छोकमे न रहे | अपना मन उपयोगी योजनाओससे परिपूर्ण रखा कीजिये । अपने मस्तिष्कके द्वारपर एक जागरूक प्रहरीकी मॉति खडे रहिये कि कहीं कोई अनिष्टकरः अहितकर घातक विचार उसमें अनजानमे ग्रविष्ट न हो जाय। प्रत्येक घातक विचार आपका भयंकर श्र है | सावधान ! ८“दूसरोंके समक्ष बहस या तकमें बातचीत तथा व्यवहारमे आत्म- समर्पणकी आदत बनाइयेः ! मान लीजिये, अप किसीसे भिन्न दृष्टिकोण




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now