Mahamanav Buddh by राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :14.67 MB
कुल पृष्ठ :185
श्रेणी : , , , , ,


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प् महामानव बुद्ध ख ठीक आचार--ू ठीक वचन--भूठ चुगली कट़माषण और वकवाससे रहित सच्ची मीठी बातों का बोलना । ठीक कर्म--हिंसा-चोरी-व्यमिचार-रहित कर्म ही ठीक कर्म है । ठीक जीविका--भूठी जीविका छोड सच्ची जीविका से शरीर- यात्रा चलाना । उस समय के शासक शोषक समाज द्वारा तनुमोदित सभी जीविकाशों में य्राणि-हिंसा सम्बन्धी निम्न जीविकाशओं को ही बुद्ध ने भूटी जीविका कहा-- दथियारका व्यापार प्राखिका व्यापार मांसका व्यापार मद्यका व्यापार विधका व्यापार | ग ठीक ससाधि-- ठीक प्रयत्न व्वायाम --इन्द्रियों पर संयम बुरी भावनाओं को रोकने तथा द्च्छी मावनाओं के उत्पादनका प्रयत्न उत्पन्न अच्छी भावनाश्ों को कायस रखने का प्रयत्न--ये ठीक प्रयत्न हैं । ठीक स्मुति--काया वेदना चित्त और मन के धर्मों की ठीक स्थितियों --उनके मलिन छ्षण-विध्वंसी झादि सदा स्मरण रखना | ठीक समाधि-- चित्तकी एकाग्रताकों समाधि कहते हैं । ठीक समाधि वह है जिससे मनके विद्षेपों को हटाया जा सके | बुद्धकी शिक्षादओों को श्रत्यन्त संक्षेप में एकपुरानी गाथा में इस तरह कहा गया हे-- सारी बुराइयोंका न करना आर श्रच्छाइयोंका सम्पादन करना अपने चिक्तका संयम करना यह बुद्धकी शिक्षा है |




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :