महामानव बुध्द | Mahamanav Buddh

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Mahamanav Buddh by राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 14.67 MB
कुल पृष्ठ : 185
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan

राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प् महामानव बुद्ध ख ठीक आचार--ू ठीक वचन--भूठ चुगली कट़माषण और वकवाससे रहित सच्ची मीठी बातों का बोलना । ठीक कर्म--हिंसा-चोरी-व्यमिचार-रहित कर्म ही ठीक कर्म है । ठीक जीविका--भूठी जीविका छोड सच्ची जीविका से शरीर- यात्रा चलाना । उस समय के शासक शोषक समाज द्वारा तनुमोदित सभी जीविकाशों में य्राणि-हिंसा सम्बन्धी निम्न जीविकाशओं को ही बुद्ध ने भूटी जीविका कहा-- दथियारका व्यापार प्राखिका व्यापार मांसका व्यापार मद्यका व्यापार विधका व्यापार | ग ठीक ससाधि-- ठीक प्रयत्न व्वायाम --इन्द्रियों पर संयम बुरी भावनाओं को रोकने तथा द्च्छी मावनाओं के उत्पादनका प्रयत्न उत्पन्न अच्छी भावनाश्ों को कायस रखने का प्रयत्न--ये ठीक प्रयत्न हैं । ठीक स्मुति--काया वेदना चित्त और मन के धर्मों की ठीक स्थितियों --उनके मलिन छ्षण-विध्वंसी झादि सदा स्मरण रखना | ठीक समाधि-- चित्तकी एकाग्रताकों समाधि कहते हैं । ठीक समाधि वह है जिससे मनके विद्षेपों को हटाया जा सके | बुद्धकी शिक्षादओों को श्रत्यन्त संक्षेप में एकपुरानी गाथा में इस तरह कहा गया हे-- सारी बुराइयोंका न करना आर श्रच्छाइयोंका सम्पादन करना अपने चिक्तका संयम करना यह बुद्धकी शिक्षा है |




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :