आर्य संगीत रामायण | Arya Sangeet Ramayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : , ,
शेयर जरूर करें
Arya Sangeet Ramayan by सरदार यशवंत सिंह वर्मा - Sardar Yashwant Singh Verma

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

सरदार यशवंत सिंह वर्मा - Sardar Yashwant Singh Verma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्रथम दृश्य श्र हादेव | क्‍या मेरे भाग्य में यही लिखा था कि में संसार से इस तरह निराश जआाऊँ ? शोक इच्चाकु बंश की समाप्ति के कलंक का टोका मेरे हो मनहूश्र माथे पर लमना था ? नाथ आपके मणडार में तो किसी चीज की कमी नहीं परन्तु यह मेरी चशिष्ठ जी का गाना चता दो मुक्त भी ऐ राजन तुम्हारे दिल पे मलाल क्या हैं। हुआ यह चेहरा उदास क्यों है कहो तबियत का दाल क्या है । हुम्दारी यदद- देख कर के हालत हुए हैं छोटे बड़े हिरासां । तुम्हारे दिल में यकायक ऐसा बताओ आय ख्याल क्या है। अमन से बस्ती है प्रज्ञा सारी ग़नीम का कुछ नहीं है खटका । जो आंख भर कर इधर को देखे भला किसी की मजाल क्या है। दबा है इंश्बर की हर तरह से मगर नहीं कुछ समझ में आता ।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :