श्री जैन सिध्दान्त बोल संग्रह - भाग 8, 9, 10 | Shree Jain Sidhant Bol Sangrah : Bhag 8, 9, 10

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री जैन सिध्दान्त बोल संग्रह - भाग 8, 9, 10 - Shree Jain Sidhant Bol Sangrah : Bhag 8, 9, 10

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भैरोंदान सेठिया - Bhairon Sethiya

Add Infomation AboutBhairon Sethiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
११ आविकाश्नम इस वर्ष आविकाश्म में क्यत एस ही श्वात्रा जे काम्याय क्रिया! उपहार विभाग इस विभाग कौ ओर से द० ११७] वी थी जैन सिद्धाल्त बोल समप्रह भर क० भर८॥2] की धन्य पुस्‍्तों कुल २० १६६॥ की भेंट दा गद । शास्त्र 'मण्डार (लायब्रेरी) दस एप हिन्दी, अगज भौ चात्र मादि पिमित्न विषयों की ४२३ पुस्तओें सगाई रद 1. चाचनालय इस विभाग में इनिर, पाप्तादिस, पावर मालिश ओर सैमामिस प३ परसिताएँ দাবী ইং ग्रन्थ प्रकाश्तन विभाग हम कप इषं मिभोन मे नीष लिसी पुन्ते णं म~~ (३) प्रौ तेन मिद्धन्ते कल सगर प्रयम भाग । (म) पच्चीम बोल का वोक्य (खनी प्रृत्ति) 1 २) খাঁ समिति तीन गुप्ति का रोश्टर (दूसरी आदर )१ प्िर्दिग पसे (ख्रणान्य) इस धप पुन प्रेम का दये नशे रूप म धाए्स्मस्षिया यया र्वन्‌ त्रिततती री मगान जिसका कि बाम सनाप्रोल है. ०००) ह में भगवाई गरें। तगात झौर मगयाने का खर्चा मलग है। यृत्य ही नय टाइप भी सयद'य गये (58 समय प्रेम का कार्य वेनत सुन्दर ढंग से चत रहां दे | सस्था के चतिमान का कर्ता १ श्री शम्मृदयालनां सम्मेगा माहित्यरन । ~ + मा निषलानकी सेनय! ३ ,, माणिक चद्नी भाषाय एस ए वां एल । ८ + निक्रानी सरकार ण्म ९ 1 » , ज्योतिषयन्द्रजी घोष एम ए बी एन है. खुरालीरामता बनाद वा ० एल घुत्र दी ;




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now