अर्थविज्ञान और व्याकरणदर्शन | Arthavigyan Aur Vyakarandarshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : अर्थविज्ञान और व्याकरणदर्शन - Arthavigyan Aur Vyakarandarshan

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ. कपिलदेव द्विवेदी आचार्य - Dr. Kapildev Dwivedi Acharya

Add Infomation About. Dr. Kapildev Dwivedi Acharya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(২২১) খহপ্সজ হ্যা ক্সামব বাহনা ই।ভলাহি म्डके शन्यौमे श्रन्त ঈ यदो निवेदन करना है कि :-- रद विद्यंसोषनुरडन्दु चित्तओोने: प्रसादिभिः | सम्त३ प्रयग्रिवाक्यानि णडन्ति हानसूयदःओं श्वागमपरयरेचाहे नापवायः स्वलनपि। न रि सदर््मना पच्छुन्‌ स्वलिवष्दप्पशेयते ॥ ( एलोहवार्तिक, प्रन्षकारप्रतिश रलोक ३ और ७ )।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now