प्रवचनसार प्रवचन सप्तम भाग | Pravachansaar Pravachan (Bhaag- 4)

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : प्रवचनसार प्रवचन सप्तम भाग - Pravachansaar Pravachan (Bhaag- 4)

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about खेमचन्द जैन - Khemchand Jain

Add Infomation AboutKhemchand Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
(७) ` कराथा,. उन प्रवचनोंका श्र उन्हींको लेकर गुस्फित किये गये इस ग्रन्थरत्मका श्राघ्यालिक वाडमयमे निःसन्देह बहुत वड़ा महत्व है श्रौर जव तक यह्‌ ग्रन्थरत्न . ` विद्यमान, रहेगा । इसका यह महत्व वरावर श्रक्षुण्ण रहेगा । श्रद्धय क्षुल्लक वर्णी जी महाराजने श्राचार्य कुन्दकुन्द श्रौर आचार्य अ्रमृतचन्द्र जी की श्रघ्यात्मदेशनाकों :. श्रात्मसाद्‌ : करके जिस सरलता: श्रौरःः सादगीके. साय जैन: श्रघ्यात्म जसे गंर्भर एवं दाशं निक .विषयोंको इन प्रवचनोंमें उड़ेला है उनका यह पुण्य ' कार्य श्रत्यन्त महत्त्वपूर्ण और भ्रनुपस है... ४ ४ ५८. ... प्रशा है, श्रध्यात्म. प्रेमी समाज. इस ग्रन्यका रुचिपूर्वक स्वाध्याय करेगा श्रौर श्र पनी दृष्टिंको “` विशुद्ध रौर सम्यक -वनांकरं पूरणः आ्आात्मस्वातेन््यके °` पथका अनुगामी बनेगा ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now