मुहूर्त चिंतामणि | Muhurt Chintamani

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Muhurt Chintamani by अज्ञात - Unknown
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 5.76 MB
कुल पृष्ठ : 228
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अज्ञात - Unknown

अज्ञात - Unknown के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
शुराशुमपघ्रकर राम हू थ्ू पौपे वदशरा इपे देश शिवा मधी । गोफ़ो चोमयपत्तगारच तिथयः शूत्या वे कीर्तिता उर्जापादतपस्पशुक्रतपसां कृष्ण शरांगाव्ययः ॥ १० ॥ घन्वय भादे चन्द्रदरशों नमसि शपलनेत्रे माधवें द्वाद्शी पौषे बेद्शस इगे दशशिव मार्गेडद्रिनागा मधी गोप्टी च उभयपत्नगा स्तिथयः । तथा उरजापाढ तपस्पशूक्रतपसा सिते शक्रा श्रग्निधिद्चरसा। क्रमात्‌ चुने शल्याः कीविंत ॥ ६० ॥| झर्व -भाद्रपदके शुरलपक्त श्रौर रुप्सुपक्ताकी १ व २ तिथियां शून्य हैं श्रावण के दोनों प्तोकी ३व २ शून्य हैं वैशाखके दोनों पद्ोंकी १२ शून्य है पौधको दोनीं पन्न की ४ च ५ शल्य हैं दोनों पक्षोको १० व ११ शल्य हैं झगइनके दोनों पत्ती की ७ च ८ शून्य हैं चैत्रके दोनों पद्ोकी £ व ८ शून्य है कार्तिकक कृष्ण पक्की ५ शल्य है । श्रापाढिके कृप्स पक्की दे शून्य हैं उसी प्रकार फाटगुनके कृष्णुपक्षकी ४ शून्य है ॥ ९० ॥ नक्तत्रसंघंधि दोप-- शक्काः पंच सिते शक्रादयार्निविश्वरसाः कूमात्‌ । तथा निंयं शुभ सापें दादश्यां वेश्वमादिमे ॥ ११॥ अनुराधा द्वितीयायां पंचम्यां पितरयभं तथा । त्यत्ततश्च तृतीयायामेकादशयां च रोहिणी ॥ १२ ॥ स्वातीचित्रे त्रयोदश्यां सप्तम्यां हस्तराक्षसे । नवम्यां कृत्तिकाष्टम्यां पूभा पढचां च रोहिणी ॥ रै३ ॥ स्वयः तथा द्वादर्यां साएँ श्रादिमे बेश्वं द्वितीयायामजुराधा पब्चम्यां पित्यसं तथा तृती यायां घ्युत्तरा एकादश्या रो हिशी श्रयोद्रश्या रवातीचित्रे सप्तम्यां हस्तराक्तले .नवम्यां कुत्तिका अध्म्यां पूभा पछ्टयां रोहियी एतत्सव शं निद्यमू ॥ ११-१२-१३ ॥ झर्थः-ज्येप्ठके कृप्णुपन्तकी १४ माधके रृप्पुपक्तकी ५ कार्तिक के की १४ श्रापाढके शुक्पक्षकी ७ फाटगुन के शुक्पदाकी 3. ज्येषके शुक्पककों - जी रे श्




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :