मंत्र योग संहिता | Mantra Yog Sanhita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी : ,
शेयर जरूर करें
Mantra Yog Sanhita by विवेकानन्द - Vivekanand

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

स्वामी विवेकानन्द - Swami Vivekanand के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
श्‌ मन्त्रयोग-संदिता । नस उसी नामरूप के अवलम्बन से ही सुकौशल पूर्ण क्रियाओं के द्वारा साधक चित्तवृत्तियों का निरोध करके वन्धन से सुक्त हो सक्ता है। 6 । जहां कोई कार्य्य होगा वहां कस्पन झवरय होगा | झौर जहां कम्पन होगा वहां शब्दका भी होना स्थिर निश्चय है यह वात स्वतःसिच् और विज्ञानाचुमोदित है । सष्टि के श्रारम्भमें जब साम्यावस्था की प्रकृति से प्रथम सष्टिकास्य श्वारम्भ हुआ तब उसी साम्यावस्था से जो प्रथम हिल्लोल की ध्वनि हुई वही प्रणव है । + । यह केवल विज्ञानवेत्ताओं का श्रनुमान सिर विपय नहीं है श्रत्युत योगीलोग इसको प्रत्यक्ष करते हैं । योग़ साधन के दारा चित्तबत्तियों का निरोध करके साधक जब साम्यावस्था प्रकृति के निकटस्थ हो जाता है तब उस साधक को सदा सबदा वहू प्रणव ध्वनि सुनाई देती है। . साम्यावस्था की प्रकृति के साथ जैसा प्रणव का सम्बन्ध है वैपम्यावस्था की प्रकृति के साथ ऐसा ही बहुत से बीज मन्त्रों का सम्वन्ध है । साम्यावस्था की प्रकृति में सत्त्व रज़ श्ौर तम इन तीन युखों की समता रहती है । जैसे. किसी थाली में जल रखकर उस थाली को हिलायां जाय तो सब से प्रथम उस थाली का सब जल एकबार एकदम हिल जायगा और पीछे उसीसे नाना तरडू उत्पन्न होकर & इस अन्य के पन्ययोग-लक्षण नामक प्रकरण में द्टव्य है । 1 इस प्रत्य के सल्नयोग विश्ञान नामक प्रकरण में है।




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :