श्री जैन सिद्धान्त बोल संग्रह द्वितीय भाग | Shree Jain Siddhant Bol Sangrah Part 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : श्री जैन सिद्धान्त बोल संग्रह द्वितीय भाग - Shree Jain Siddhant Bol Sangrah Part 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about भैरोंदान सेठिया - Bhairon Sethiya

Add Infomation AboutBhairon Sethiya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
{ 1 >---मफाने न° ६ जेक्सन लेन तथा न° १११, ११ , ११३, ११९, ग्रौर ११८ कर्निगस्टीट का तीसरा दस्सि 1 क्लक्ना रजिस्टी मार्षिम ता 1» १६२६4 रतिस्ट्री क्रादी गई है वार्षिक आय २ ८००) स छुठ मधिर। /--नेस्सेन लेन वाल उपरोक्त मकान का एक भौर तीसरा हिस्धा ता०१८. ७ १६४० का सरथा न यरीदा । दस प्रवार सस्था क पाय उपगत्त मरन राय বিশ্ব হা লা । হত লি ছা নিহাশা লা হ০ ५०८ से उद्ध अधिक आता हे । या निर माद्या मगयियन का विराल भयन सवर, सामायिफभाषठा प्रनिक्रमण ভয়াতযান গাহি धार्मिस कायी के लिए द दिया गया। इसकी रजिस्टी वीक्ानर मे ता०१० नवम्बर्‌ सन्‌ १६२३ का हृद्‌ । “-माहरा मराटियन वा दूसरा चाल भवन, निसम लायतरेग, द्या पाय्नादा, प्राइमरी स्कूल भौर नाइट कालत झादि सस्थाए दे। पीकानर मे तागरा ७ न्वृम्बर्‌ १९०९ बो रमिम्ट हुई 1 --रिटिग प्रेमे २ टूचल मरीन १ टेष्टपरेत कन्गि यग वरह मना तथा सभी प्रयार कं टिन्दी राय ईं यद पटले ঘানু लट्च दनी सेथ्याका था । ज होने सस्था का भेट बर दिया। घत-+साम्धाओं क प्रबन्ध के लिए एस क्मेरीवा। हद्‌, निमे नीत जिम भतुसार पदाधिक्तरा तथा सदस्य द-- मभपाद्वि--तीमान्‌ दानवीर सेद भैरोंदानदी सेटिया। मत्री-- थीम'न्‌ जेट्मलजा सेटिया | >पमथी--बादू माणउचन्दुजी सेटिया 1 सदृस्य--- १ श्रीमान्‌ सठ व्मारामत्री बाँडिया । २ श्रीमान्‌ मदा युपर्सिदनी यद श्रीमान सट पवचन्दजी चद्मविया(भाटिटर) । > मन पानमदभी सथ्य! श्रीमान सेट সমনমন্তলা ष्टा 1 धीमान सेर यादिन्द्मजी भन्खाला । श्रीमान जुणणजरी सन्या 1 < ~^ न * ক




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now