तीर्थकर महावीर भाग दूसरा | Tirathkar Mahavir Bhag-ii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Tirathkar Mahavir Bhag-ii by डॉ वासुदेवशरण अग्रवाल

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about डॉ वासुदेवशरण अग्रवाल

Add Infomation About

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( २३ ) सेन ३४८, सुकाली ३४८, सुकृप्णः,सुजात ३५४८, सुजाता ३२८; सुदंसश ४६२, सुदं ३९८, सुददंव २५८२, सुधर्म रश्व, सुनकत्र २६२, सुनकन् ३९८, सुप्रतिष्ट ३६८, सुबाहुकुमार देशत, शुभद २५६, सुभद्रा ३५६, सुमना २६६, सुसनभद्र ३.५६, सुमरा ३६६, सुता २५६, शवासन ३.६६, हरिकेखल ३.४२, र्रिचिन्दुन ३६०, दरूल ३६० ! ू आचक-आवपिका आवकधर्से ३६३ सुत २९६, गुखत्रत २६७, भिकताव्रत ३९६, प्रतिमा ३७०, प्रतिचार ३७४, श्रणुत्रत के द्यङिचार ३७५, रुवतो के अ्रतियार ३६२, कर्म-संत्रंधी १४ अतिचार ३६७, चारिज्य- सम्बन्धी ५ भ्रतिचार ३६९६, सम्मान्य £ अतिचार ३६६, शिक्षा গন कै श्रतिचार ३६७, संलेखना के ‡ श्तिधार ४०३, ज्ञान के ८ श्रक्तिचार ७०४, दन के ८ प्रतिचार ४०९, श्वित्र के ८ भ्रतिचार ४०६, तप के १२ थरतिचार ४०६, अनशन ४९०, उुणोद्रीवप ७१२, वृषं रेप ४१९, रसपरित्यागतप ४१६, कायक्लेश-तप ४१६, संलीनता तप ४६६, आयश्रित ४९७, विनयतप ७९६, चेयाबृत्य ४३६, स्थाध्यायतप ४२०, ध्यानतप ६२०, कायोत्सगे तपए ४२०, वीयं के ४ श्यतिचार ४२१, सम्यकत्य के € अतिचार ४२१1 आनन्द ४२२ चेव्य-शब्द्‌ पर द्िचार ४७४२, धार्मिक साहित्य (संस्कृत) ४४४, घोद्च-साहित्य ४४९, पाली ४४५, इतर साहित्य ४४६, कुछ आधुनिक विद्वान ४६३1 कामदेव ए च्वूरूनीपिता




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now