किससे क्या सीखें | Kisse Kya Sikheyn

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Kisse Kya Sikheyn by कृष्णगोपाल माथुर - Krishna Gopal Mathur

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कृष्णगोपाल माथुर - Krishna Gopal Mathur

Add Infomation AboutKrishna Gopal Mathur

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
শি मुहम्मद साहव का मद्य-निषेध ६ शिष्य ने कहा--“विलकुल आपको ही समर्पण कर दिया था} गुरुजी ने कद्दा--“तो फिर उसका क्‍या हुआ, क्या नहीं हुआ, इसकी पंचायत तु किसलिये करता है ?” .. खचमुच पर-दुःख निवारण करने के लिये अपनी प्रिय-से- प्रिय ओर क्रीमती-से-कीमती वस्तु का त्याग कर देना संन्यासियों का लक्षण है। , (६४) मुहम्मद साहव का मद्र-निषेध मद्ापुरुष मुहम्मद पेग्रंवर ने अपने योवन-काल में एक गाँव में जाते समय देखा कि संध्या-समय अनेक अरब लोग हक होकर शराब पी रहे हैँ, और इस अवस्था में खूब दख रदे तथा आनंद-पू्वेंक समय बिता रहे हैं। दूसरों को सुखी देखकर स्वभावत: एक सात्त्विक पुरुष को जो आनंद होना चाहिए, चह मुहम्मद्‌ साहवच को उस दिन हुआ । दूसरे दिनि लौटते खमय «न्‍्होंने देखा कि वहाँ बहुत- सा रून बद रहा है! पूछ-ताछ करने पर मालूम हुआ कि बहुत शराब पीकर उन अरब लोगों ने गई रात को बहुत




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now