भाग्य | Bhagya

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Bhagya by ऋषभ चरण जैन - Rishabh Charan Jain

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ऋषभ चरण जैन - Rishabh Charan Jain

Add Infomation AboutRishabh Charan Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
साग्य ११ ने लड़की की शिक्षा पूरी करने के लिए ही रुपया दिया था, झच पूरी होने पर छीन जिया । कोई वात नदीं !” श्र, इसके बाद भी घीरे-वीरे वह कु बड़वड़ाती रही । कई दिन वीत्त गए । सोच घु धला होने लगा । वात भूलने लगी । सा-बेटी के मुँह पर कभी कभी द्ास्य की रेखा दिखाई देने लगी । . एक बात और कहद दें। दयावती का मैका देहात में था । उसके पिता किसी समय भारी जमींदार थे, तीन बंदूकों के लाइसेंसयाफ्ता थे । मकान क्या; एक बड़े मदल में व रहते थे । चार-चार द्वाथी उनकी पशुशाला में चँघते थे, छोर उनके संबंध में कदने लायक तो चहुत-सी चातें हैं- जैसे उनके इलाकें में कोई मुकद्दमा अँगरेजी अदालत में न जाने पाता था, खुद फैसला करते थे, कई सौ 'झादमी, फौज की शक्ल में दथियार-वंद उनके यहाँ नौकर थे, इत्यादि--पर हम उनको एक दोष बताकर ही समाप्त करते हैं । यड़े तेज मिजाज और युस्तेल छादमी थे । पड़ोस के एक ठाकुर से एक वार लड़ गई । बात बहुत साधारण थी । मुकद्दमेवाजी शुरू हुई । सत्रद् बरस मुकदमा चला, श्र दोनो ही पक्षों का सर्वेस्व उसमें स्वाद्य दो गया । सहसा दयावती के पिता का देहांत हो गया बेटा कोई था नहीं, जो छुट्ठ था, सब दामाद का । पर अब बचा ही कया था ? जो दस-पाँच दज़ार था, उसकी दासाद को फ़िक्र क्या थी ? बचत, दामाद ने जाकर उनके घन से दो-एक कुएं, घर्म .शाले चनवा दिए, और वाक़ी घन उनक रिश्तेदारों में घाँट दिया। यानी, द्यावती के मँके में दो-एक दूर के रिश्तेदारों के श्यति- रिक्त और कोई न था । जब तक मौज . रही, रोज़ कोइ-न-कोई श्र टपकता था, पर दिन फिर, तो किसी की सूरत तक दिखाई




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now