ना-कथाकोश पहला भाग | Na-Kathakosh Pehla Bhag

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Na-Kathakosh Pehla Bhag by उदयलाल काशलीवाल - Udaylal Kashliwal
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
39 MB
कुल पृष्ठ :
1232
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

उदयलाल काशलीवाल - Udaylal Kashliwal के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
भव्य-पुरुषरूपी कमलेके प्रफुछित करनेके लिये सूर्य हैं ओर छोक तथा अछोकके प्रकाशक हँ जिनके द्वारा संसारकी वस्तु- मात्रका ज्ञान होता है, उन जिन भगवानको नमस्कार कर में आराधना कथाकोश ना- मक ग्रन्थ लिखता हूं ।उस सरस्वती-जिनवानी-के छिये नमस्कार है, जो संसा- रके पदार्थोका ज्ञान करानेके लिये नेत्र है और जिसके नाम- हीसे प्राणी ज्ञानरूपी समुद्रके पार पहुँच सकता है-सर्वज्ञ हो सकता हैं।उन मुनिराजोंके चरणकमल्ॉको में नमस्कार करता हूं, जो सम्यग्दशन, सम्यग्ज्ञान और सम्यक्चारित्ररूपी रत्नोंसे ' पवित्र है, उत्तम क्षमा, मार्दव, आजव, सत्य, शौच, बरह्मचयं आदि गुणोंसे युक्त हैं और ज्ञानके समुद्र हैं।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :