संसार की स्वाधीनता | Sansar Ki Swadhinta

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Sansar Ki Swadhinta by सुख सम्पतिरय भण्डारी - Sukh Sampatiray Bhandariहरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyaya

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

सुखसम्पत्तिराय भंडारी - Sukhasampattiray Bhandari

No Information available about सुखसम्पत्तिराय भंडारी - Sukhasampattiray Bhandari

Add Infomation AboutSukhasampattiray Bhandari
Author Image Avatar

हरिभाऊ उपाध्याय - Haribhau Upadhyaya

हरिभाऊ उपाध्याय का जन्म मध्य प्रदेश के उज्जैन के भवरासा में सन १८९२ ई० में हुआ।

विश्वविद्यालयीन शिक्षा अन्यतम न होते हुए भी साहित्यसर्जना की प्रतिभा जन्मजात थी और इनके सार्वजनिक जीवन का आरंभ "औदुंबर" मासिक पत्र के प्रकाशन के माध्यम से साहित्यसेवा द्वारा ही हुआ। सन्‌ १९११ में पढ़ाई के साथ इन्होंने इस पत्र का संपादन भी किया। सन्‌ १९१५ में वे पंडित महावीरप्रसाद द्विवेदी के संपर्क में आए और "सरस्वती' में काम किया। इसके बाद श्री गणेशशंकर विद्यार्थी के "प्रताप", "हिंदी नवजीवन", "प्रभा", आदि के संपादन में योगदान किया। सन्‌ १९२२ में स्वयं "मालव मयूर" नामक पत्र प्रकाशित करने की योजना बनाई किंतु पत्र अध

Read More About Haribhau Upadhyaya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
( ५) ह कि इतिहास, अर्थाच, राजनीति, साहित्य, तत्वज्ञान आदि विष- थोंकी उपेक्षा कर केवल वैज्ञानिक शिश्चाकी ओर ध्यान देनेसे नुक- -सान होता है। राष्ट्रके चरित्र-निर्माणमें केवल वेज्ञानिक शिक्षासे सहा- -यता नहीं मिलती । मोतिकशासत्र यह बात नहीं सिखा सकते कै समाजका विकास ओर सुधार केसे हों सकता है। जिसे आजकल হল वैज्ञानिक भाव ( 36106 शर ) कहते हूँ, वह पूर्व कालके लिए अविश्वास तथा आधुनिक कालके लिए वृथा अमण्ड पैदा करनेमें सहायता देती हे । हाँ, यह बात सत्य है कि भगर्भशास््र, पदार्थविज्ञानशास्र, आदि भोतिकशाख्रोंके ज्ञानसे मनुष्यने इस जड़ स्ृष्टिकी शक्तियोंपर विशेषरूपसे अधिकार कर लिया है । धम ओर नीतिके सम्बन्धमें जो गलतफहमी हो रही थी, उसे निरू करनेमे भी भोतिक शास्तरोंका विशेष उपयोग हो रहा है। पर आत्म-ज्ञान, मनुष्य-स्वभावका ज्ञान, चरित्र और रह्वुणोंकी रक्षा केसे करना चाहिए, यह बात बतलानेमें मौतिक शाखत्र असमर्थ है। 'समाजकी भीतरी अवस्था केसे सुधारी जाय, इस विषयपर भोतिक _ 'शास्त्र कुछ भी प्रकाश नहीं डालते । भोतिकज्ञानसे कोभ, मत्सर, स्वार्थपरायणता, स्पर्धी, पूर्वजेकिं प्रति घृणा ओर दम्भ आदि दुगु- -णोकी वृद्धि हई हे । अतएव केवर भोतिकविज्ञानही पर राष्ट्रकी उच्च शिक्षाकी नींव डालना कभी छाभकारक नहीं हो सकता । * अत- ৯ 38619091798 700 20148128व ६06 प्रक्ष॑प्राः8 0 80087, 195 '220% 10905 17190070 ৪, जोरों; 888०० 00 010.0675900- ৯৫- 0७106 1188 100৮ 009176990. 0109 198 0 90019 10909070610 810. छक्र. $€ 1085 0011 प 1१ 0৪ ৪, 8010 01 ৪2009770810 8700. 9, 9006810010 £০0 009 083৮. 16 188 1৮62 परऽ 200870807 10, 609 98] 01 10101108001), 5013061010 29078100190 17 008 19907) 01 0০116108,




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now