संक्षिप्त जैन इतिहास भाग - २ | Sankshipt Jain Itihas Bhag - 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : संक्षिप्त जैन इतिहास भाग - २ - Sankshipt Jain Itihas Bhag - 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कामता प्रसाद जैन - Kamta Prasad Jain

Add Infomation AboutKamta Prasad Jain

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
थृचष्ठ॒ पंरि १६ १० १६९५ है डै- भख०७ कि १७१ भर. १७९ कर न ब डे १८ ८ के ८९, ११ ९१ पद क्र भ स. , रे ज फू ०० पर तह २२ २०१ कै २०३ स०४ * कर ९ शहर पद २०९६ १३ २१२ ध् क् मन २१४ डे २२० भ रेनहे ६ कक ्श्ड हू रंग ३ शुद्ध र्ड्मा माप्राए ० कोई ६६ अन्यथा पारस्थ पारस्थ ऐरे संस्या शासन स्वीकार करने अग्निचिता सभी उलट नियम आात्मविसेन उपदेश सर थी श्ेक कटिपवे अवुद्ध कि प्रथम भादी (०पा'ा81 शासन प्रारंमीक भा० ऐएू० शुद्ध दम भाप्रारा० को ध््ट सन्पत्र पारत्य पारस्य ऐल संख्या भासन त्वीकार न करने अग्नि चिता कभी उत्कट विनिमय शभात्म विसजेन देश श्री दशा कटिचप्र प्रवुद्ध कि वे प्रथम सादि पण०्प्ाए0घ)] शासक प्रारंभिक मा० रे ०




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now