सुन्दर साहित्य - माला | Sundar Sahitya - mala

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : सुन्दर साहित्य - माला  - Sundar Sahitya - mala

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about रामलोचन शरण - Ramalochan Sharan

Add Infomation AboutRamalochan Sharan

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
অন प्रेमरूप ध्रुव रसाधार जो परानन्द सौन्दर्य-निधान जिसके द्रशन से भिर जाते हैं दशन के सब अरमान जिसमें विश्व, विश्व में जो हे ज्रल-तरङ्ग-खम नित्य-लनाम लहे विश्न-द शनः त्रजबल्लभः उसके चरणां मै বিগাল एवमस्तु हरे |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now