लो गायब हो गयीं फुंसियाँ | LO GAYAB HO GAYIN PHUNSIYAN

Book Image : लो गायब हो गयीं फुंसियाँ - LO GAYAB HO GAYIN PHUNSIYAN

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

अशोक गुप्ता - ASHOK GUPTA

No Information available about अशोक गुप्ता - ASHOK GUPTA

Add Infomation AboutASHOK GUPTA

पुस्तक समूह - Pustak Samuh

No Information available about पुस्तक समूह - Pustak Samuh

Add Infomation AboutPustak Samuh

वेन डायर - WAYNE DYER

No Information available about वेन डायर - WAYNE DYER

Add Infomation AboutWAYNE DYER

सेज डायर - SAJE DYRE

No Information available about सेज डायर - SAJE DYRE

Add Infomation AboutSAJE DYRE

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
कभी-कभी ऐसा भी हो सकता है कि तुम जिस बात से परेशान हो उसे बदला ही न जा सके -- जैसे कि आपके साथ कोई पैदाइशी समस्या या कमी हो. उदाहरण के लिये मुझे ही ले लो. जब में छोटा था मुझे अपने चेहरे के धब्बे बहुत खराब लगते थे. मेरे चेहरे पर करोणों दाग थे. मैं अक्सर उनके बारे में सोचता था और परेशान रहता था. सोचता काश ये जादू की तरह गायब हो जांय तो कितना अच्छा हो. फिर एक दिन मैंने निश्चय किया कि मैं अपने चेहरे के दागों से परेशान नहीं होंगा. मैंने अपने मन को यह कह कर शांति दी कि आखिर ये दाग तो मेरे अस्तित्व के ही हिस्से हैं. इससे मेरे दाग गायब तो नहीं हुए पर में उनसे अब परेशान नहीं होता..... कुछ समय बाद ये मुझे थोडे-थोड़े अच्छे भी लगने लगे.”




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now