सुमित्रानन्दन पंत काव्य कला और जीवन दर्शन | Sumitra Nandan Pant-kavya Kala Aur Jeevan Darshan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Sumitra Nandan Pant-kavya Kala Aur Jeevan Darshan by शचीरानी गुर्टु - Shacheerani Gurtu

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about शचीरानी गुर्टु - Shacheerani Gurtu

Add Infomation AboutShacheerani Gurtu

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
| श्रीमती शचीरानी शुट्रे द्वारा लिखित और सम्पादितव आल्ोचनात्मक ग्रन्थ महादेवी वर्मा / काव्य कला और जीवन-दर्शन :--श्रीमती महादेवी वर्मा के काव्य-अ्न्थों पर प्रतिनिधि विद्वानों द्वारा लिखे गये आलोचनात्मक निवन्धी का संगह। प्रारम्भ में उनकी कटा और जीवन-दर्शन की अपूर्व झांकी | हिन्दी के आलोचक हिन्दी के प्रमुख आलोचकों की आलोचना शैली की समीक्षा और उनके विराद व्यक्ति का दर्शन | प्रेमचन्द और गोर्की : प्रेमचन्‍्द और गोकीं के जीवन णौर कतित्व पर आलो चनात्मक निबन्ध | साहित्य-द्शेंन : (दो खण्डों में ) देश-विदेश की प्रमुख कवि-कलाकारों, उपन्यासकारों और विश्व-बिख्यात लेखकों की तुलनात्मक समीक्षा | कला-दर्शन ४ विद्व के प्रमुख देशों की चित्रकला की समीक्षा और विदब के प्रतिनिधि कलाकारों पर रेखा-चित्र और उनकी कल्ाा-समीक्षा | भारतीय कलाकार + अर्वाचीन कला-प्रवृत्तियों, कलछानचारयों और विभिन्‍न कला-पग्रुपीं की समीक्षा | चैचारिकी ; आलेचनात्मक निबन्धों का संग्रह | विद्व की महान्‌ महिलाएँ + विश्व के सभी देशों की जीवित प्रतिनिधि महिलाओं पर सचित्र रेखा-चित्र | हटता धागा « श्रीमती गुर्टू की पन्‍्द्रह सनोवैश निक कहानियाँ का संग्रह |




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now