ख़रगोश के सींग | Kharagosh Ke Seeng

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Kharagosh Ke Seeng by प्रभाकर माचवे - Prabhakar Machwe

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about प्रभाकर माचवे - Prabhakar Maachve

Add Infomation AboutPrabhakar Maachve

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
- -फिर मेड़िये ने मेमने से कहा-- तूने नहीं तो तेरे बाप ने गाली दी होगी | ( इसप मेरे साथ एक बड़ी कमज़ोरी है । में गाली नहीं दे सकता । बचपन से ऐसे धामिंक और सुसंस्कृत संस्कार मन पर जमे हैं कि में एक बारगी एकदम गुस्से से भर कर मंगई पर नहीं उतर सकता और न एकदस श्रादिम भाषा में अपने क्रोध को व्यक्त कर सकता . हूँ । इसका मतलब यह समझा जाता है कि मैं दब्बूं हूं मैं कायर हूँ मैं मुँह तोड़ जवाब नहीं दे पाता--सुभ में क्रोध जैसे दमित- शमित हो गया है। संक्षेप में में सभ्य हो गया हूं। सम्यतां का एक क्षण यह माना गया है कि जो गाली न दे वह सभ्य मनुष्य है । मगर दुनिया ऐसी उलटी है कि जो जितनी ही बड़ी गाली जतने दी अधिक आवरण में छिपा कार चस्पां कर देता है वह रद




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now