कबीर - ग्रंथावली का शैली वैज्ञानिक अध्ययन | Kabir Garanthawali Ka Saili Vaigyanik Adhayan

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Kabir Garanthawali Ka Saili Vaigyanik Adhayan by रामविजय सिंह यादव - Ramvijay Singh Yadav
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 16.69 MB
कुल पृष्ठ : 260
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामविजय सिंह यादव - Ramvijay Singh Yadav

रामविजय सिंह यादव - Ramvijay Singh Yadav के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
व युग व्यक्तित्व पर्व शैली एक दूसरे के सापेक्ष्य है । सी भी साहित्यफार की रवना की देखकर उरके युग एवं व्यक्तित्व का सहज आकलन या जा सकता हे । युग एवं व्यक्तित्व परस्पर प्रभावित होते रहते है और इन्हीं थे शैली प्रभावित होती हे । अस्तु कबीर- ग्रंथावली का शैेलीवेज्ञाननिक अध्ययन प्रस्तुत करने के ललिए सर्वप्रथम शैली की प्रभावित करने वाले तत्वों में कबो र-व्थ्तित्व एवं उक्तछे युग का चविश्लेकण अनिवार्य ही जाता हे | किसी साहित्यकार की रचना को देखकर उसके व्यक्तित्व का सहज ही अनुमान लगाया जा सकता हे क्योकि साहित्यकार का व्यक्तित्व उसकी शेली की प्रभावित करता है । उसका जैसा व्यक्तित्व ही उसी के अनुरूप उसकी अभिव्यजना पर्वत भी होगी ।. प्रसिद्ध विद्वान बफो ने शायद इसी ओर इंणित करते हुए कहा है - शेली स्वयं व्यक्त है अर्थात प्रत्येक व्यध्ति अपनी शेली में प्रीतिथबिम्बत होता हें । पश्चिमी विद्वानों में ददले ब्राउन जानसन एवं शेरन ने भी व्यीक्तत्व एवं शेली की अभिन्‍नता की स्वीवार किया हे । |1-+ डिकानरी आफ वर्ड लिटरेचर शिप्लाय पृ0 उ9१8 2- + माध्यम संघटक तथा संरपना में व्यस्त कलाकार का व्यितित्व ही शैली है -ददले उन लेल्क की शेनी उसकी उतनी हो अपनी होती है जितनी उसकी जंगुली -छाप- ब्राउन 4-४ दर व्यक्त को उपनी शेली होती हे । -डॉ0 जानसन 5-४ शैली का अर्थ कला त्मक अभ्िव्यीक्त में व्यीक्तत्व की िद्यमानता | - शेरन




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :