रामचरितमानस माधुरी | Ramcharitmanas Madhuri

Book Image : रामचरितमानस माधुरी - Ramcharitmanas Madhuri

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ब्रजमोहनलाल - Brajmohanlal

Add Infomation AboutBrajmohanlal

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
श्रीरामनामसाहात्म्य ओर स्तुतियां ॥ हि निज जधथम अध्याय ॥ घन्दों राम नाम रघुषर को । हेतु छशानु भानु हिमकर को ॥ बिधि हरि हर मय बेद प्राण सो । अगुण अनूपम गुणनिधान सो ॥ महा मंत्र जो जपत महेशू । काशी मुक्रि हेतु उपदेशू ॥ महिमा जासु जान गनराऊ । प्रथम प्ज्ियत नाम प्रभाऊ ॥ जानि आदि कवि नाम प्रताप + भयउ शुद्ध करि उलटो जाप ॥ सहस नाम सम सुनि शिवबानी । जपि जेइ शिव संग भवानी ॥ हरे हेतु हेरि हर हीको। किय भूषण तिय भषषण तीको ॥ नाम प्रभाव जान शिव नीको । कालकूट फल दीन्ह अमीको ॥ . दो० बषाय्त रघपति भंगति तलसी शालि सदास। राम नाम बर बण यग श्रावण भादा मास ॥




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now