बौद्धधर्म का प्रभाव | Baudh Dharma Ka Prabhav

Book Image : बौद्धधर्म का प्रभाव  - Baudh Dharma Ka Prabhav

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

डॉ. विद्यावती ‘मालविका’ सागर नगर की एक ऐसी साहित्यकार हैं जिनका साहित्य-सृजन अनेक विधाओं, यथा- कहानी, एकांकी, नाटक एवं विविध विषयों पर शोध प्रबंध से ले कर कविता और गीत तक विस्तृत है। लेखन के साथ ही चित्रकारी के द्वारा भी उन्होंने…

Read More About . Dr VidyawatiMalvika'

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
बाद्धघम का भारत मे विकास डे थी. इन गुरुकुछों के शिक्षक आचाय उपाध्यय तथा दि्याप्रामोरय आचाय ( दिसापासोनख आचरिय ) होत थ जनता सार्वजनिक कार्य करने में अग्रसर रहती थी और अपना उसमे सौभाग्य मानती थी | बाग लगाना, उपबन का निर्माण, पुल बँधवाना, प्याऊ बैठाना, कप खोदवांना और पथिकों के विश्वाम के लिये वर्मशाला बनवाना बहुत ही उत्तम सार्वजनिक कार्य साने जातें थे* । मार्ग को साफ करना, गाँवों की सफाई करन! तथा सबके उपयोग के योग्य स्थलों को शुद्ध रखना महत्वपूर्ण सार्नजनिक कार्य साने जाते थे । भगवान्‌ बुद्ध के आविर्भाव के पूर्व उत्तर भारत को धार्मिक एवं दार्शनिक स्थिति जटिल हो गयी थी । नाना प्रकार के मतवाद फैले हुए थे । कर्मकाण्ड एवं अन्धविदवात में पड़ी हुई जनता धार्मिक एवं दार्गनिक ऊहापोह में ही उलन्नी हुई थी । एक ओर उपचिपद्‌ आदि के दार्शनिक ज्ञान की' चर्चा होती थी तो दूसरी ओर यज्ञ, होम, बलि, मेध आदि कर्मकाण्ड का बोलबाला था । निरीह-पशुओ की वि यज्ञो में पुष्य की अभिलाथा से लोग करते थे, जिनमें पेड, बकरे, गाय, मैस और साँड़ के अतिरिवत अरवे, गज और नर-बलि तक का प्रचलन था | दशन की स्वाभाविक जटिलताओं से जन-जीवन वोलिल था । उस समय सप्पूर्ण भारत में छ प्रमुख धर्माचार्य अपने-अपने धर्म तथा दर्शन के प्रचार में संलग्व थे । जिनके सास है-+( १ ) पूरण कस्सप ( पूर्ण काइयप ), ( २) सक्खलि गोसाल ( मस्करी गोशाल ), ( ३ ) अजित केस कम्बलि ( अजित केश कम्बलि ), ( ४ ) पंकुधकच्चायन (प्रद्मधकात्यायन), ( ५ ) निगण्ठ नाथपुत्त ( निर्मस्थ ज्ञातृपत्र ), ( ६ ) संजय बेलट्रिपूस ( संजय वेलष्ठि पुत्र )* । इन्हें तीर्थ डू[र भी कहां जाता था । इनमे पूर्णकाइयप अक्रियाबादी थे । उनका मत था कि संसार में पाप- पुष्य का कोई फल नहीं होता । चाहे कोई कितना ही पाप करे था. पुष्य, उसके कारण उसे बुरे-भले विपाक नहीं मिलेंगे । मक्खलि गोसाल देववादी थे । उनका कथन था कि प्राणियों के कष्ट भोगने का कोई कारण नहीं हैं । संसार के जीव बिवा किसी हेतु के दुख भोगते है । बे अपने व मे नहीं हैं। वे भाग्य के फेर में पड़कर छः जातियों, चौसठ लाख छियासठ योनियों में सुख-दुख का अनुभव करते है । जैसे सुत की गोली फेंकने पर उछलती हुई गिरती है वैसे ही प्राणी आवागमन में पढ़कर ही दुख का अन्त कर सकेंगे* । अजित केश कम्बछिं उच्छेदबादी थे । उनका सिद्धान्त था कि आत्मा, परमात्मा, लोक, परलोक, माता-पिता, पुण्य-पाप कुछ नहीं है । मनुष्य चार महाभूतो से मिलकर बना है । जब वह सरता हैं तो पृथ्वी महापृथ्वी मे लीन हो जाती है । ऐसे हो जछ, तेज ( अग्नि ) तथा वायु क्रमण जरू, १. जातक १८ । संयुत्ततिकाय, प्रथम भाग, भिन्षु धर्मरक्षित द्वारा हिन्दी में अनूदित, बनरोपसुत्त १, ५, ७, पृष्ठ २३ । ३. धम्मपदटुकथा, सघमाणवक की कथा 1 दीघनिकाय है. रे पृष्ठ ईै९ रर । प्‌. वहीं पृष् १९ ६. वहीं पृ० २० ग्ट्‌




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now