मध्य हिंदी रचना खंड - १ | Madya Hindi Rachana Khand - 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Madya Hindi Rachana Khand - 1 by कामताप्रसाद गुरु - Kamtaprasad Guru
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 2.96 MB
कुल पृष्ठ : 96
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

कामताप्रसाद गुरु - Kamtaprasad Guru

कामताप्रसाद गुरु - Kamtaprasad Guru के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
शिकारी कीं कद्दानी ः श्ड्द (३) दो स्त्रियाँ और बच्चा एक बार एक स्मी ने पड़ोसिन के छोटे बच्चे को पुरा कर अपने घर में छिपा लिया । बच्चे की माँ ने अपने लड़के को बहुत खोजा पर वद्द कहीं न सिला। अचानक पढ़ोसिन के घर में उसका रोना सुनकर उसने जान लिया कि सेरे बच्चे को इसने छिपाया है । तब बच्चे की माँ ने पढ़ोसिन से झपना बच्चा साँगा । पढ़ोसिन ने कद्दा कि वद्द बच्चा मेरा है तुम्दारा नहीं । इस पर उस स््री ने राजा के यहों छपना दुःख सुनाया । राजा ने दूसरी ख्री और उस बच्चे को अपने सामने बुलवाया और दोनों खियों से पूछा कि बच्चा किसका हे । अत्येक ने कद्दा कि बच्चा सेरा है । उन दोनों की बातें सुनकर राजा को सच्ची बात का पता न लगा | इसलिए उसने एक चतुराई की । अपने एक सिपाद्दी को बुलाकर राजा ने भूठ-मुठ यदद झाज्ञा दी कि इस बच्चे के दो टुकड़े करके एक-एक स्त्री को एक एक टुकड़ा दे दो यद ाज्ञा सुनते दी चोर ख्री तो चुप हो गई पर बच्चे की माँ फूट फूट कर रोने लगी । उसने राजा से रोते हुए कद्दा कि कृपा कर बच्चे के टुकड़े न कराइये । इन बातों से राजा को विश्वास दो गया कि रोने वाली ख्री दी बच्चे की माँ है । झाबर उसने बच्चे को उसकी माँ को दिला दिया और दूसरी ख्री को कैद का दूंढ दिया । (४) शिकारी की कहानी एक शिकारी जंगल में बाघ का शिकार करने के लिये गया । वद्दीं उसने एक ऊँचे पेड़ पर सचान बनवाया और संध्या के समय बन्दूक लेकर उस पर बैठ गया । आधी रात तक वह्दों कोई जंगली जानवर न आाया और शिकारी के बैंठे-बेंठे नींद झाने लगी । इतने में झचानक पत्तों की खड़्खड़ाइट सुनाई पड़ी जिससे शिकारी सचेत द्ोकर बैठ गया । थोड़ी देर के बाद चॉदनी में एक वाघ स० हि० र०--व२




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :