हिन्दी व्याकरण | Hindi Vyakaran

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : हिन्दी व्याकरण - Hindi Vyakaran

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पं. कामताप्रसाद गुरु - Pt. Kamtaprasad Guru

Add Infomation About. Pt. Kamtaprasad Guru

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
डूतरा. #ऋ्र-उपडग ड्डहु तीपरा का सरइल-प्रस्यय जहर चौथा. फ श्दी-मस्वय हुंडई. पॉँचर्यों. #-55ू प्रत्वय शछ्य. छ्य्ठा अनासमास जप 5 सातठों ,,-पुनइक्त शम्द फर३ सीछतरा माग । पाक्प-पिन्यास । पहला परिष्छेद--पाफ्य-रचना पहला प्रध्याय--अस्दावना हर दूढण.. #- करों के श्र्थ झोर प्रयोग घ्र्र्श तीसए. )7--0मानाविकरण| शम्द ॥ ॥ लौपा.. ४--उददेश्य, करें और क्रिया का प्रम्बय है औ४६ पाँचबाँ.. ,,-- रर्बनाम हब. छ््रा ऊ-बजिशेषण ओर संतजंब क्रक ब्बर साहा. ॥-जाों के भ्रम और प्रयाग हू, अआ्राट्नों ,--फ्रिबायक हंडा हर, नया आप्ारर्दत भरफर दसर्यों. »-संयुक्त कियाएँ कल अप स्वारइकों ,,--भअ्रम्पत डप४ बारएगों ,-भ्रष्बाहार 421 छेरएबों #-पदक्कम हु खओोदइबों ,/-प द-परिखय डर दूसरा परिच्छेद्व--त्राक्य-प्रणफरण । पहल्ला प्रध्पाद--जिपवार॑म भ्रछ दूसरा ४गायाकय और बाक्यों में मेद प्र दीशरा »--साभारण बाक्य मु चौवा. ,-मिम आास्थ ब्र्ड




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now