गीता हमें क्या सिखलाती है | Geeta Hame Kya Sikhalati Hai

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Geeta Hame Kya Sikhalati Hai by पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 1.25 MB
कुल पृष्ठ : 62
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar

पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
गीता हमें क्या सिखलाती है थ्‌ नफैलाया है उसको अपने-करव्य से ऐूंजकर मतुष्य सिद्धि को पाप्त होता है । १-वर्णोंचित दुसरे कर्तव्य के साथ वैदिक यज्त जिनने कि मनुष्य का कत्याण अभिमेत है वदद भी पुरुष के छिये अंप्रदेय जनुपेय हैं।- यज्नशिष्टाशिन सन्तो सुच्यन्तें से किल्विष 1 भुझ्ते ते खे पापा ये -यचन्त्या्मकारणातू ॥ २ 3 जो यश का घचा हुआ अन्न खाते हैं बह सारे पापों से छूट जाते हैं पर बह पापी निरा पाप खाते हैं जो अपने दी निमित्त पकाते हैं। अन्नाद भवान्ति भ्रतानि पजन्यादन्नसभव । यज्नादू भवंति प्जन्यो.यज्नः कर्मसमसुद्धव ..॥ रै। १४ कम बहने विद बह्माक्षरसमुद्वमू । - तस्मात्‌ स्वगते अहम निर्ये ये प्रातिथितमु॥ १५९ एवं प्रवर्तितं चक्क॑ नाजुवर्तयतीह यः अधायुरिन्ियारामो मो पार्थ स जीवति ॥ १६ सब माणधारा अन्न से उत्पन्न हाते हैं अन्न मघ से उत्पन्न होता हैं मंघ यज्ञ से उत्पन्न हाता हैं यज्ञ कम है उत्पन्न हाता दे | ४ कम को वेद से उत्पन्न हुआ जांन ेद अविनाशी(परमात्पा)ते उत्पन्न हुआ है इसलिये सर्वव्यापक ब्रह्म यज्ञ में सदा स्थित हे ( अर्थात्‌ . यह करने वछि पर अपना स्वरूप मकाश करता है ) । १५। हे जजुन इसप्रकार के चढाये हुए श्वक्क का जो(पुरुष) अनुसरण नहीं




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :