गीता हमें क्या सिखलाती है | Geeta Hame Kya Sikhalati Hai

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Geeta Hame Kya Sikhalati Hai by पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :1.25 MB
कुल पृष्ठ :62
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar

पं राजाराम प्रोफ़ेसर - Pt. Rajaram Profesar के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
गीता हमें क्या सिखलाती है थ्‌ नफैलाया है उसको अपने-करव्य से ऐूंजकर मतुष्य सिद्धि को पाप्त होता है । १-वर्णोंचित दुसरे कर्तव्य के साथ वैदिक यज्त जिनने कि मनुष्य का कत्याण अभिमेत है वदद भी पुरुष के छिये अंप्रदेय जनुपेय हैं।- यज्नशिष्टाशिन सन्तो सुच्यन्तें से किल्विष 1 भुझ्ते ते खे पापा ये -यचन्त्या्मकारणातू ॥ २ 3 जो यश का घचा हुआ अन्न खाते हैं बह सारे पापों से छूट जाते हैं पर बह पापी निरा पाप खाते हैं जो अपने दी निमित्त पकाते हैं। अन्नाद भवान्ति भ्रतानि पजन्यादन्नसभव । यज्नादू भवंति प्जन्यो.यज्नः कर्मसमसुद्धव ..॥ रै। १४ कम बहने विद बह्माक्षरसमुद्वमू । - तस्मात्‌ स्वगते अहम निर्ये ये प्रातिथितमु॥ १५९ एवं प्रवर्तितं चक्क॑ नाजुवर्तयतीह यः अधायुरिन्ियारामो मो पार्थ स जीवति ॥ १६ सब माणधारा अन्न से उत्पन्न हाते हैं अन्न मघ से उत्पन्न होता हैं मंघ यज्ञ से उत्पन्न हाता हैं यज्ञ कम है उत्पन्न हाता दे | ४ कम को वेद से उत्पन्न हुआ जांन ेद अविनाशी(परमात्पा)ते उत्पन्न हुआ है इसलिये सर्वव्यापक ब्रह्म यज्ञ में सदा स्थित हे ( अर्थात्‌ . यह करने वछि पर अपना स्वरूप मकाश करता है ) । १५। हे जजुन इसप्रकार के चढाये हुए श्वक्क का जो(पुरुष) अनुसरण नहीं




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :