मुंहता नैणसीरी ख्यात भाग - १ | Munhata Nainsiri Khyat Part-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Munhata Nainsiri Khyat Part-1 by बदरीप्रसाद साकरिया - Badri Prasad Sakariaमुंहता नैणसी - Munhata Nainsi
लेखक : ,
पुस्तक का साइज़ : 6.41 MB
कुल पृष्ठ : 400
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

बदरीप्रसाद साकरिया - Badri Prasad Sakaria

बदरीप्रसाद साकरिया - Badri Prasad Sakaria के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

मुंहता नैणसी - Munhata Nainsi

मुंहता नैणसी - Munhata Nainsi के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
मुंहता न॑णसीरी ख्यात थ् प्रथी तिण साररा धणी आहृठमा नरेस कहावे । कंलपुरा कहावे सु के दिन कैछवै वसीया । आहाड़ा कहाँ सु के दिन आहाड़ वसीया । वात राँणा चीतोड़रा धणीयांरी - श्. प्र हर १. १७. २१८ ५ २९. ३ेदे. ३७. अ. प्‌ एक तो उपर पांने ४९७ लिखी छे ने वात एक पोकरणे वांगण कवीसर जसवंतरो भाई जोसी मनोहरदास इण भांत मंडाई छे - इणरो विजैपांन गोत्र । ब्रह्मारो बेंटो विजेपांन हुवो । तिणरों परवार - अै घणां दिन वांभण थकार वडा रिखीदवरर हुवा । बड़ी तपसीया करी । इतरी पीढ़ी ताई श्रै सर्मा कहाणां। पीढ़ीयांरी विगत - ब्रह्मा ड् घिजैसर्मा ६. नरसर्मा १०. जयसर्मा . १४. चीरसर्मा १८. विराजसर्मा२२. हृदैसरमा २६. वासतसर्मा ३०. सुक्रतसर्मा ३४. वरदेवसर्मा ३८ हेमवर्णसर्मा ४०. विजैपांन खेमसर्मा गजसर्मा वसुसर्मा विजैसर्मा हरखसर्मा कलससर्मा नरसर्मा डे. ७८ ११ १५. १९. २३. २७. देश. सुभाख्यसर्मा ३५. कामपतिसर्मा३९ जनकारसर्मा ४३. गालवसर्मा ४६.गालवसुरसर्मा ४७. ४९.हर्जनकारसर्मा५०. दरमादिसर्मा५ १. ५३. गोदसीससर्मा५४. वावंयसर्मा ५५ ५७ नित्यानदसर्मा ५८ वनसर्मा । . नरनाथसर्मा ४० राजासर्मा ४४ पालदेवसर्मा ४८ शुभ भवतु ॥ देवसर्मा झा रिखीसर्मा ८. बायसर्मा १२. केसवसर्मा १६. लेखसर्मा २०. पीचसर्मा २४. जनसर्मा २८. हरसरम्मा ३२. सुवुद्धसर्मा ३६. अग्नसर्मा जगसर्मा दतसर्मा जायसर्मा राजसर्मा वेदसर्मा लिलाटसर्मा धर्मसर्मा विदवसर्मा . पीतसर्मा . गालवदेवसर्मा . हर्जेनरसर्मा गोविदसर्मा ५२. गोवरधनसर्मा . विंराटसर्मा ५६. वेंगसर्मा 1 उपरोक्त । 2 द्वाह्मण 13 लिखाई है । 4 ये । 5 रहते हुए + 6 शऋचषीदवर 1 7 दर्मा ।




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :