विजय पार्ट - १ | Vijay Part-1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : विजय पार्ट - १  - Vijay Part-1

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about प्रताप नारायण श्रीवास्तव - Pratap Narayan Shrivastav

Add Infomation AboutPratap Narayan Shrivastav

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
विज्य १ बाबू राघारमण ने हँसते हुए कहा--^कौनं कहता दै कितुम सूख हो ? जो तुम्हें मूर्ख कहें, वह स्वयं एक बड़ा भारी मूर्ख है । सन्नी के श्रसमय झ्रा जाने से सुके बड़ी चिंता है। कुछ-न-कुछ ज़रूर श्रनिप्ट हुआ है । चह अपने लेक्चर, मित करनेवाली नहीं है, चाहे जो कुछ हो, वह कॉलेज छोद़नेवाली नहीं, श्रसमय कलिज से शमना कषर से खाली सहीं है |; राजेश्वरी ने खीमकर कहा--“ज्ञरा-सी बत कह दी, बस, उसी के पीठे पड़्गषए्‌ । म क्याजान, स्यो मन्नी चली श्राई | मैंने तो पूछा था, उसने कुछ जवाब नहीं दिया । अव्र तुम्हीं जाकर पटो, तो तुम्हें शायद बता दें ।” यह कहकर राजेश्वरी फिर हसने लगी । बाबू राघारमण राजेश्वरी की हंसी देखकर अप्रतिभ हो गए । उन्होने कहा “सच हे, सी-चरित्र समना टेढ़ी खीर है । श्रभी- अभी नाराज़ हो गई, चार बातें सुना दीं, श्र अब हँस रही हैं ! अच्छा, में हो जाता हूँ मन्नी से पूछने । मन्नी मुभसे कोई बात नहीं प्विपाती । तुभसे चिपाती होगी, क्योकि तुम उसकी... राजेश्वरी ने उष्फुल्न कंड से कहा-- “भक्ते ही मै उसकी सौतेली मा होऊं ; लेकिन मन्नी तो अपनी मा से झधिक ही सुभे प्यार करती हैं । यदि बहन जीती भी रहतीं, तो वह उन्हें सुभसे अधिक न चाहतीं । सन्नी-ऐसी लड़की पैदा करकं वह धन्य हो गईं । क्या करूँ, में ही. अभागिनी ह, जो मेरे एक लड़की सी न हुई । यह भी अच्छा हुआ । शायद अगर कहीं मेरे एक-झाघ लड्का-वङ्का होता, सो वह मजी-सैप्ता न होता, और मैं उसे देख-देखकर कुढ़ती । ` मारे डाह के शायद सब मन्नी पर बीतती, और मैं यह सोने का फूल खा. जाती । मन्नी हमारी. चिरंजीवर रहे, बस, जइकी-लड़का दोनो है । हमें न चाहिए 1” जावू राघारमण ने हँसते हुए कहा--“ग्ररे, तुमने तो श्वासी




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now