जैन तंत्र शास्त्र | Jain Tantra Shastra

Jain Tantra Shastra by राजेश दीक्षित - Rajesh Dixit

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

राजेश दीक्षित - Rajesh Dixit के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
० २. श्री अजितनाथ तीर्थकर अनाहत सर्ववशीकरण मग्त्र-पन्त्र निम्नलिखित मन्त्र श्री अजिननाय तीर्थवर का अनाहत मन्त्र है। इसके प्रयोग से राजदरबार में अधिकारीगण तथा अन्य सब लोगो वा वशीकरण होता है । मस्त्र- 3 णमो भगवदों अजितस्स धम्मे भगवदों विज्साणं महाविज्ञाण । 3 णमो जिणाण ७ णनो परमोहि जिणाणं 3 णमों सब्योहि जिणाण भगवदों अरहतों भजितस्स सिज्सधम्मे भगवदो विज्सर महाविज्सर अजिते अपराजिते पाणिपादे महावले अनाहत विद्या स्वाहा । साधम-विधि--सर्वे प्रथम आगे प्रदर्शित चिन सप्या ९ के वो फिसी स्वर्ण चाँदी अथवा तोंवे के पत्र पर खदवाले। फिर एक हु | र्‌ हि पटरी या २2




User Reviews

अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :