विजय यात्रा | Vijay Yatra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Vijay Yatra by हंसराज बच्छराज नाहटा - Hansraj Bachchharaj Nahata

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about हंसराज बच्छराज नाहटा - Hansraj Bachchharaj Nahata

Add Infomation AboutHansraj Bachchharaj Nahata

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
तीन १ ट् के थि रे आलोक भगवान ने कहा-गोतम ! जीव त्रिकाछवर्ती है- शाश्वत है । इस््रिया दप्ते नहीं जान सकतीं। वह अरूप है; इत्द्रिया सरूप को ही जान सकती है। मानसिक च्वढता रहते हुए आत्मा या सत्र की अनुभूति नहीं होती। वह अनन्त ज्योतिर्मय जीव, शरीर, इन्द्रियि और मन से परे है।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now