तीर्थंकर चरित्र भूमिका | Teerthkar Charitra Bhumika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Teerthkar Charitra Bhumika by कृष्णलाल वर्मा - Krishnalal Varma

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about कृष्णलाल वर्मा - Krishnalal Varma

Add Infomation AboutKrishnalal Varma

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
[ श७ 3 धाला होगा | धमेध्वज दूसा इससे -झापका पुथ सापेके बश मे मददान प्रातिप्ठा बाला ओर धरम ध्वज होगा । पूर्ण डुम देखा, इस से श्ञापवा पुष्र सर्च झतिशया स पूर्ण यानी सर्घ॑ तिशय युक्त दोगा। पढ़ा सरोवर देखा इस से अधपका पुत्र समार रूपी जेगल से पाप- ताप से सपतें हुए मनुष्या का ताप इरेगा! चोर समुद्र देस्था इस से आपका पुन अधृप्य-नहीं पहुंचने योग्य दोने पर भी शोग उस के पास जा सवेग 1 घिमान मेखा इस से आपके पुन्नकी बैमालिक देव भी सबा फरेंगे । रत्नकुल देय इससे आपका पुश्न सपगुण सम्पन्न र्‌रने की स्तान के समान दोगा ! ौर जाव्वल्यमान नि्पूम अभि देसी इसस 'ापका पुत्र '्मन्य सेजस्वियो के तेज को फीफा करने वाला होंगा । आपने चौदद्द स्वप्ने हो रखें हैं इससे आपका पुत्र 'वौदद गाजलोक का स्पामी दोगा 17? मन स्यप्ठों का फल सूनावर इन्द्र अपन अपने स्थान पर चले ज्ञाति हैं। । पचसन्यायसू 1 सीयंकरों के भन्मादि के समय इ द्राददि देव मिल मर भी चत्मष करते दें उस उत्सव को कल्याणक कदते हैं ।इन




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now