गुण - गीतिका | Gun-geetika

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : गुण - गीतिका - Gun-geetika

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मिश्रीमल जी महाराज - Mishrimal Ji Maharaj

Add Infomation AboutMishrimal Ji Maharaj

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जय गुण गीतिका . ! १०--सथारो मैं करस्या हो श्रासक सेणा साभलो, काढ़ी छे मुख चाय । श्रावक॒ कांगद हो धीकासेर मोफले, स्पामीजी ने वेग घुलाय ॥ पूज्य० ॥| श१--कांगद चाच्या हो स्यामी “'रायचन्दजी,' कीनो घुरत उिद्ार 1 नागौर पधारिया दो चरण पृद्यरा भेटिया, पूज्य. दप्या. तिणयार ॥ पूपय० ॥ १०--तपस्या.. मांडी दो... सलेसणा, कीना ण्कास्तर इग्यार। एक चेला रो द्दो कियो पूथयजी पारणों, विगय... हणा.. परिद्दार (| पूज्य० ॥ १३--दूजे बेलारो हो कीजे पृश्यजी पारणो, को से तो कियो रे सवार इरगिज श्ट्दार हो तीनो री दायो नहीं, चढियो परिणाम पेले पार ॥ पूप्य० ॥) १४--स्वामी 'रायचन्दली' दो ऊद्दे पूजय नी यीजे पारणो, श्रायक कह जोडी हाथ । राजपंय पीधी हो पूदयजी छु पिनेती, पिण मुख्य एक चाहत ॥ प्रूय० ॥ श्श--सयव श्ठारे दो. ययें. तेपने, चैत्र पूसम धुकयार 1 घर नागीर में हो चारु सबरा यृन्द में, क्यों जाय जीय सवार ॥ पूझ्य० ॥ हइ-नगर ना. लोफ दो टोने संघरे, दर्शन पूपयत्री सु राग ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now