कहानी खत्म हो गई | Kahani Khatm Ho Gayi

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Kahani Khatm Ho Gayi by आचार्य चतुरसेन - Achary Chatursen
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 17.95 MB
कुल पृष्ठ : 262
श्रेणी :
Edit Categories.


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य चतुरसेन - Achary Chatursen

आचार्य चतुरसेन - Achary Chatursen के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
कहानी ख़त्म हो गई श्भ्र एक दिन बूढ़े सर्वेराहकार रोते हुए मेरे पास आ्राए। चौथारे बहाते हुए उन्होंने कहा--बर्बाद हो गया छोटे सरकार लुट गया लड़की मेरी विधवा हो गई उसकी तकदीर फूट गई । मेरी इकलौती बेटी थी सरकार उसे बेटा बंना- कर पाला था । उसपर यह गाज गिरी । बूढ़ा बहुत देर तक रोता रहा । यद्यपि वे सब बातें मैं भूल चूका था पर स्मृति के चिह्न तो बाकी ही थे । सुनकर सु दुःख हुआ । बूढ़े को तसलली दी । और जब वहू चला गया एक बूंद भ्रांसु मेरी ्रांख से भी टपक पड़ा। वाहियात बात थी । लेकिन मन का सच्चा तो सदा से हुं । मेरा मन द्रवित हो गया । बूढ़े ने कहा था कि वह उसे यहां ले झ्राया है तब एक बार उसे देखने की भी लालसा हो गई । पर वह सब बात मन की थी मन में रही । महीनों बीत गए । कभी-कभी उसका ध्यान भ्राता दया भ्राती पर कुछ विदेष झ्ाकर्षण न था । सुषमा धी रे-धीरे कमजोर श्रौर पीली पड़ती जा रही थी । मुभ्के उसकी चिन्ता थी । ज्यों-ज्यों डिली- वरी का समय निकट झा रहा था मेरी उदट्िग्नता बढ़ती जाती थी--इन सब कारणों से मैं उस बिचारी विधवा को भूल ही गया । सुषमा के प्यार ने मुभे अभिभूत कर लिया था । सुषमा मेरे जीवन का झ्राधार थी । श्रौर भ्रब मैं इस प्रकार के विचारों को भी मन में रखना पाप समभता था । पाकर सुषमा भी खुश थी । वह देवता की भांति मेरी पूजा करती थी । मिसेज़ दर्मा एकदम द्रवित हो उठीं । उन्होंने कहा--भई बंद करो । झ्राप सचमच देवता हैं। श्राप जेसा पति पाने के कारण मैं तो सुषमा बहिन से ईर्ष्या करती हूं मैं जैसे चीख पड़ा । मेरे गले की नसें तन गईं श्र मृह्ियां शिच गईं। मैंने कहा--श्रीमतीजी जल्दी अपनी राय कायम न कीजिए पुरी कहानी सुन लीजिए । मेरी और भावभंगी देख मिसेज दार्मा डर गईं। वे फटी-फटी अांखों से मेरी भ्रोर टुकुर-टुकुर देखने लगीं। मैं इस योग्य न था कि इस समय उनसे अपने श्रदिष्ट व्यवहार के लिए क्षमा मांगूं । मैंने कहानी भागे बढ़ाई एक दिन देखेता क्या हूं कि वह सुषमा के पास बेठी है। इस समय वह यौवन से भरपूर थी । उस समय यदि वह खिलती कली थी तो राज पूर्ण विकसित पुष्प । परिधान उसका साधारण था । पर स्वच्छता भर सल्लीका जो बहुधा देहात में. नहीं देखा जाता उसकी हर श्रदा से प्रकट होता था । उसका रंग अब ज़रा श्र




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :