आँसू भरी धरती | Aansu Bhari Dharti

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : आँसू भरी धरती  - Aansu Bhari Dharti

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about ब्रह्मदेव - Brahmdev

Add Infomation AboutBrahmdev

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
च्याँसू भरी घरती ः ५ माँ साँ मैं तुम्हारा प्रहरी रहूँगा । हाँ अग्नि की वर्षो में भी तुम्हारे मन्दिर का द्वार किसी को तोड़ने नहीं दूंगा। . चायु में जा प्रलय का स्वर गूंज रहां है दूर शीर समीप से जो अख-शस्तरों की मनकार शा सदी है समुद्र तथा प्रथ्वी पर जो सृत्यु की सेना घिर रही है वह थक कर झन्त में . मूर्लिखित हो जाधगी । - माँ उस संसयं मैं. आइततों के लिए. तुम्हारे स्नेह और शान्ति का. अंग्त बादँगा.। माँ मैं तुम्हारा प्रहमरी रहूँगा |.




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now