किन्नर देश में | Kinnar Desh Main

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : किन्नर देश में - Kinnar Desh Main

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about राहुल सांकृत्यायन - Rahul Sankrityayan

Add Infomation AboutRahul Sankrityayan

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
डाझवगतलेमे प्रवन्ध पा । नादर लेलपर सात ग्डॉ चालोके लिये तो बह रथान गम है, लाग एस दावे सर रद थे. ड श्र घन रसपर # मीस था सानों यहाँ प्राण सुखानेवाज्नी लू चल रही ₹। रामपुर १२ मॉल था. फ चचना छोडेपर था, फोई नदी जप पी । ढापइरफे ्ौर गर्मी लग रही थी. किन्तु वेगले के फमरग दुवते रो जी छायाने अपना छपर फिया । कुर्पीपर बठ दी थे. कि दा कारडेबल सामये चाये | दूसरा समय रोता; दो सेमाच नहीं नो श्ाश्य हाता । उन्होंने झाकर वाकायता ललापी दी चोर चाहा गादव रद; लिये सजा ते सभी द्सियस सर्प निभालनेपेलिये मुख्य प्रवघाधियारी (चीय एस्ज्क्यूठिय जेजा है, विन्तु लोगोकों यह नाम लेना श्रासान नहीं हैं इपलिये वह उसे पुराने ही नाते पुकारते है । सेने दीवाने सादिवक चन्युचाद देते लिपाटियोदिलिये कोई सेवा न हॉलेपर स्ेद य्रकद प्र मे न पे 4 व | डे ही सं, /उा.. न्तु लोगोकों फलकी तथा याद रानी ईद, ज उन्का पा बनना हो; नहीं तो उन्हें फलकों नदी सना फिक किन्दु दिलोरी शक्ति क रहती हु । हमारे पास रायसाहिवका दिया छुले सालका थ रमें एूछुनेरर सने छाड़॒लासेफे लिये कह दिया । इन समय यहीं हद्का साजन अधिक श्रठुकूल जान पड़ा ! वेंगलेमें शी लगी खिड़किगेके वाहर घनी जाली लगी देखकर कुछ अनकुस होता था, दरार यद वात सारे तिव्वत-हिस्टरतान सड़कके। डाक वेंगलाम थी, किन्तु इसका लाभ तद मालूम दुआ, जव द्गले महीनों स कंडके कंड द्ाक्रसण करसे लगे । से दी सेव छील- चार स्वानन हीं लगा था, कि ज्वालापुरद पडाजी झा पहेँचे, व टमारी ग्रेताला नालामे कर रहे थ, दौर उसी शत सशन घरसे । उन्हे भी दो सब देकर हाथ जोड़ लिया । पदड़ोंने शिक्षित लोग वचन सिंडे रहते है # (६ कि 1 घट पद * अ/ ८ | पड मी 2 24 डर ? व्यय श्र प्स 1 2 हनी हू थम था पथ टी हि




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now