सामवेद संहिता | Samved Sanhita

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Samved Sanhita by रामस्वरूप शर्मा गौड़ - Ramswaroop sharma Gaud
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 552.79 MB
कुल पृष्ठ : 961
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

रामस्वरूप शर्मा गौड़ - Ramswaroop sharma Gaud

रामस्वरूप शर्मा गौड़ - Ramswaroop sharma Gaud के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दा नर पक खत .धलग क. विद 4 विकसित. कि... कि विवि -..पकिलि किस कि. विवि 2 मििक अर किक नह उ्लितिक के..लीडिकि की है हर्ट हु... हक. हि ई कु म् ही कुल्यम. कक कक कवरफम्कशाल दल जान कक कक के अयादिनजलिरवटटिटिककजट देकर 1 अस्मयज्ञाय संचन्तु यश्ञाजूमावाय च मवन्तुः इत्यथ । आप ने है. 4. अस्मत्सस्वास्घन पातये पानाय च दा सुख मवन्तु डे | तथा. दाम डर 1 | ग आभिष्ये मवन्तु दिव्य जद हमारे यश्कके अड् वर्म सः पीतय दो अग्निम उपस्तुषहि उपत्य स्तात कुरु। कादराम कि मेघाधिन सस्थ ह घर्माणम सत््यवचनरुूपेश्ण घर्मेणोपंतं दूव दोलसमानस अर्मावसालनम है अमीवानां 1हुसकामा राजणा वा आातकम ॥ १२ कै | दाचुआंक नाशक आग्निम अग्निदेवकों उपस्तुहठि उपस्थित ह १६ # सामवेद्संडिता-आग्नेय पे % दकसमकाकाभलकरकॉलिकशन ३२३४ १ श्र इर. कक विमर्निमुप स्ठाहटि सत्यघम हर डै देवममीवचातनम्‌ ॥ है लि. खाए के अथ द्वादशी । मेघातिधिकापे । है स्तातसंघ अध्यर ऋत हे उपासकों अध्वरे यज्ञमें कविम्‌ सेघावी सत्यघमौणाम सत्यवचन रूप धर्मेसे युक्त देवम चोतमास अमीवखालनम होकर स्तुति करो ॥ १२ ॥ हे. ₹ २ शरशे्श्श्े १ रे 3१२ ५ के गे शं नो. देवीरमिष्ये शं नो भवन्तु पीतये। रेड ३१ २ 7. शं योरभिखवन्तु न || कल. अथ अयोद्शी । सिन्घुद्धी पो 5स्वरीपों या सूत आसो वा ऋषि । न है. अस्माक पापापनादद्वारण दा सुख मवन्तु। दवा दब्य भाप अभिष््स. नः शस्र हमारे पाप दूर होकर कु त्र प्राप्त हो देवी आप न हुए रोगांकों दुर करें नः . | आानि खबन्तु हमारे ऊपर असुतरूपसे टपकें॥ १३॥




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :