कुंभनदास | KumbhanDas

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : कुंभनदास - KumbhanDas

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about पो. कंठमणि शास्त्री - po kanthmani shastri

Add Infomation About. po kanthmani shastri

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
१९. संक्रांति के पर्च में तीथयात्रा के समय इनके पिता को पुत्रम्राप्ति का छाशी- घाद किसी मदास्माने द्विया, निके सस्मरण में इनका ' कुमनद्‌ास' नामकरण किया गया था । इनके पिता गौरवा क्षत्रिय वे । पिता का नाम लौर परिचय प्राप्त नहीं होता | ' धर्मदा › नामक नके एक काका ये-जो एक धमैश्ीर ज्यक्ति थे । सभवत; पिता के दिवंगत दो जाने पर कुभनदासजी पर उनके काका की धार्मिक वृत्ति का क्षघिक्त प्रभाव पड़ा । 'परासौली' गाँव के पास थोडी सी भूमि दस वश ॐ लधिकार में थी, जह रह कर यह श्चपना निर्वाह्द चलाते थे । कृपि के द्वारा ही कुटम्ष का निर्वाह द्वोता था। श्वदत्ति› [नोकरी द्वारा जीवन-निर्वादह कुंभनदासजी फो क्षमीण्ट नहीं था। “ यावद्नव्घेन सनन्‍्तोप ? के कनुसार साधारण रूप में कुट्ठम्ष का परिपालन कर लेने में ही इन्दें श्ानन्द एवं कात्म-गौरद का क्षनुसद होता था । घम्मदाप की धार्मिक चर्या से वाल्यावस्था में ही सगवदू-मक्ति एवं सदाचरण की भोर इनकी प्रवृत्ति हो गई थी। सांसारिक वादं-विवादों, झगडा-झझ्तटों कौर हैप्यौ-द्वेप से जीवन को कटहु बनाना उन्हें कषसीष्ट नहीं धा। उनझो याक्ष्यक्ाल से द्वी गुद्दासक्ति नहीं थी। धसत्य भापण घोर पापकर्म से सदा दूर रहकर सीधे-साथे प्जवासियों की रीति से रहना इनकी एक विशेषता थी। क्षध्ययनादि को न्यूनता होने पर भी फधा-शास्र-पुराणादि-भ्रवण के द्वारा वहुश्रतता मोर गमीरक्तान दर्द प्राप्त हो गया था-यद्द मानना द्वी पढेगा | चाहे सत्संग से हो, चाहे क्षध्य- यन से ? इनका साहित्य-सगीत-कछा का ज्ञान पराक्राँप्टा को पहुंचा हुआ था, इनसे कोड शंका नहीं हे। पदरचना-शैली, संगीत-सेचा कौर प्रस्थाति से सद्दज ही हुस कथन की पुष्टि होती है । समय काने पर इनका विवाह हुआ | “ जेत * गाव के पाम ' घहुला चन * में इनका ससुराल था। इनऊी स्त्री यद्यपि साधारणतया ग्रामीण थी पर उच्त पर इनची संगति का भ्रमाव पड़ा, जिनके कारण इन्द गृ्स्याघ्रम कभी सेवा सें प्रतिचन्‍्धक सिद्ध नहीं हुआ | * লিল बन्धुओं'ने इन्हें गोौरवा ब्राह्मण लिखा है जो-यैक नहीं ह । इनकी जाति और वद् ঈ কই ভীম অব লী লল বখা ঈনাত্ত में विद्यमान हे ।




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now