धर्म शिक्षावली पांचवा भाग | Dharm Shikshawali Panchva Bhaag

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Dharm Shikshawali Panchva Bhaag by अग्रसेन जैन - Agrasen Jain
लेखक :
पुस्तक का साइज़ :
3 MB
कुल पृष्ठ :
136
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है |आप कमेन्ट में श्रेणी सुझा सकते हैं |

यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

अग्रसेन जैन - Agrasen Jain के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
ते धरम जाग বি পালিশ त्वे चद्‌ र 9 | ‡१मे হি সালিদী ঈী লা ক্বীয়লিজ আগিজা বা হা নিকলগছ কালে £ 1 शीर, फोट. पनम, पारी, चरि प्रादि पशुष्तो शोर मनुष्यों द्वारा तथा हा, बातो ভিন গাহি হালা घोर ঘর पाणः मतिह्‌ यर नदन्‌ जन्म তৌতী কী চিক হাক গান खाना ন্‌ হিরন টা নু प्यास से, पानी यो यर्षा से, बहारने से फटकानने मे, कपरी में धार बोडइने पर तरप सटे पार मरते ह। कितने ही गाएही, मोटर, रेख শাহি হাহা লার जाने पर पर गत्ते कि নিত मेश्वरो ক লা যন प्राग र लना पप्र सत्प पर जिया ल र শহঙলহা হা मार > नि द्रण निकाय তল টস उन्म दारा उन कफो मार दिया नाता, লিনল হী সীল অনু मनुष्यः प्रारा उनः লাল হলিত ब्थसातर का निमित्त मार दिये जाते हूँ 'पच्चन्द्रिय तियस्धा के তুলা नश्रत्ति भाप अपनी अ्रांपो से देखते हो है। पद्म पत्नियों ४1 कोई पालक नहीं उन को पेंट भर হাক भोजन पास नङ प्रिलता- भुग्य प्पास गर्मी सर्दों की कितनी है! यापाये ভন सहने फरनी पहली है । गिरारी लोग निर्दष्ता प्वेक सोली या नीर से उनको मार डालते है। मासा- ह्री पकाङर पतिरहं লট লাল पर फित्तने ही पशुष्रो को बलि फे नाम से हीम कर विया जाता है। बफरों, मेढों, मुर्गों ग्रादि की कुरवानी फी जाती है, सथांदा सेवी




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :