नेहरु अभिनन्दन ग्रन्थ | Nehru Abhinandan Granth

8 8/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
शेयर जरूर करें
Nehru Abhinandan Granth by पंडित जवाहरलाल नेहरू -Pt. Javaharlal Neharu

एक विचार :

एक विचार :

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

पंडित जवाहरलाल नेहरू -Pt. Javaharlal Neharu के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
प्रापन स्टीफरस जतघ एमसंन रोन सुधीर कृगार रद कम सगूर धूजटिप्रसाद मुकार्जी म्गूरिएल तेंस्टर भाधन शरीर श्रणे निरजनम सिह गिल लायनेल फोह्सेन किफकर कुमार पिल्लेय साधूराम द्विवेदी ठीरालाए शेसाई गोपि्दशास राय फृष्णदास शुधीर रारतगीर ठारिगाउ एपाध्गाय शीप्रेफाश दा पागालाल चगगणाल गेहती एत शमरंबामी मुदक्षियर म्राधर झ्ारण एग० लोगर सर्टूलाल मगीनपास धगीन गुरुगल निहाले शिट फ्रै० ही० शाह साममेस्प्रमाथ राग चाण शाण नील शास्त्री सद्ष्मण दोस्ती जोशी सुनीविकूमार साठुर्कर्गा प्र० सें० श्रलतेकर शीधर व्यकिटेश पुणसाम्थेकर जपुनाथ सरकार रमेशभर्त मजूमदार रभलीरसिदं घेरियिर एस्विन लीलरस्व धर नकल ने मा मक्का की नी ्रनुकमणी श्फूति फा रहुश्यनहुंठयोग पंडित मेहुरू--जेस में श्ौर बाहर एशियाई श्राकाक्ष फा स्वर्ण-गरड़ गात्थी जी की जय भारत पी राजसे संस्कृत प्राचाज कक ने बर प्रोर श्राहतिसां मन पाधरण के साम दंड लक कल कक कर जी के सनसा बसा कथणा लोकिक दिल्‍ली श्रीर सामसिक रवास्थ्य प्रधूरा भाषण बरें का छुत्ता | सुक्के बड़ी-बड़ी भीड़ों से नास्ता पड़ा हूं लक ड् गे का न नी नह न हक शहा पी जा का ना जया न आन थे च्न्ज ग्क्न्क जनक जि न्&्न्भ & तर्क शी शुष्क पारशसी सहानु दवा में ग्ालिमन- जवाहरलाल नेहरू की सर्ति जवाहर का भौहुर फूछे संश्मुतिया पे छरूनबरित जोषनी नेहरु । एवं जीलगाध्ययन विशेष सेख भारत तथा सकी यंवेधिक सीति साम़ाज्ययाद थी फेखेवोध प्राधिक श्रगुरास्धान लथा शिक्षण-संह्था मारतनापा सोकिक राज्य स्वतन्त्र भारत का राजरव पोलमथादी राजनीति मारते में प्रभाव सरश्तीय संमाजन््पवरथ के नेतिक प्राधार मारत की शाग्तरजातिकाता हंस स्थितिसीस हाखा था गतिवील शर्ति ? भारतीय सुसलभानों का सविष्य सुरिलिस शाससनकास में कबसीरियों की दा भारत में सैनिक शौर भरोसिंवा जातियों बापू थिंदुस महादेव + एक महाराष्ट्रीय राजनीतिय भारत में मायीन भर शाधुनिक मामथ भि का सुधार रद ४७-२१ ४८ शण&-१५३ १४१४६ रु६० २१४ १०-१६५ १६६ २६७ १६८५-१७४७० २७१०-१७ श७३-१७४ १७४ २१७६-१७५ १७६-१६० १८१९-९८ रूप १४१६७ १दद-९०१ सूण्पनर १९ रह ५०११९४० २४४-१७६ २२७७ ९१७ २ रघरनरय रे पद यचरन७ म६६०३०४ छ0वन्दण ३३०७-११ २१३१६ है १७०३१२० पे 8३ न२९०१४९४ मे ०3९ ६३०६४ ४६ न ३७-३३ ६ प्हठनपेणह 2 एच बक्टपच्तलास्शीस्य . पका पाए झा




User Reviews

  • deepak

    at 2020-03-05 04:40:13
    Rated : 8 out of 10 stars.

    यह ग्रंथ हमको उस काल के भारत को समझने में सहायता देता है
    उस काल के लगभग सभी बुद्धिजीवी और विशिष्ट लोगों ने नेहरू जी पर विशिष्ट लेख लिखे हैं
    किन्तु उसी काल के योग्य एवम शिक्षित सर्वमान्य नेता बाबासाहेब अम्बेडकर जी की कोई प्रतिक्रिया नही पाकर अचम्भा भी होता है

अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :