भारत वर्ष का अंधकारयुगीन इतिहास | Bharat Varsh ka Andhkaryugin Itihas

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Bharat Varsh ka Andhkaryugin Itihas by बाबू रामचंद्र वर्मा - Babu Ram Chandra Varma
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 15.68 MB
कुल पृष्ठ : 498
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

बाबू रामचंद्र वर्मा - Babu Ram Chandra Varma

बाबू रामचंद्र वर्मा - Babu Ram Chandra Varma के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
६ विपय पर १२८ कनक था कान कौन था . र४०-२४३ १९२६ फौराशुक उल्लेख का समय श्र कान श्रथवा कनक का उदय ११ रधदेनराइ४ .१३० समुद्रयुप्त श्रौर वाकाटक साम्राज्य २४५४ १३--झार्यावत और दक्षिण में समुद्रयुप्त.के युद्ध 6 १३१ समुद्रगुप्त के तीन युद्ध २४४. १३९ कौशांबी का युद्ध . रघ-र४४ १३३. दूसरा काम का .. रइ-२५० १३४-१३५ दक्षिणी भारत की विजय... . २५०-२५४ १३५ क. फोलायर झीलवाला युद्ध . र५४-र२५८ १३६. दूसरा श्रार्यावर्त युद्ध . रश८-र५६ कि १३७ एरन का युद्ध हक र५६-२६१ १३८ परन एक प्राकृतिक युद्धक्षेत्र था... . २६१-२६२ १३६ रुद्रदेव दर १४०-१४० क. श्रायावित के राजा . २६३-२६६ हु १४१ श्रार्यावर्त युद्धां का समय . २६६-२६७ २४--सीमाग्रांत के शासकों और हिंदू श्रजातंत्रों का अधीनता स्वीकृत करना उनका पौराणिक वन आऔर द्वीपस्थ भारत का अधीनता स्वीकृत करना .. है १४२. सीमाप्रांत के राज्य . . . .२६७-२६६.




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :