सिद्धि के सोपान | Siddhi Ke Sopan  

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
श्रेणी :
Book Image : सिद्धि के सोपान  - Siddhi Ke Sopan  

लेखकों के बारे में अधिक जानकारी :

आचार्य श्री नेमीचन्द्र - Acharya Shri Nemichandra

No Information available about आचार्य श्री नेमीचन्द्र - Acharya Shri Nemichandra

Add Infomation AboutAcharya Shri Nemichandra

राजचन्द्र - Rajchandra

No Information available about राजचन्द्र - Rajchandra

Add Infomation AboutRajchandra

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
'पिद्धि के सोपान॑ के यूल पद्म श्रपुवे प्रवसर अपुवं अवसर एवो क्यारे आवहे ? क्यारे थइशुं बाह्यान्तर नि्रन्थ जो, सवं सम्बन्धन्‌ं बंधन तीक्ष्ण छेदीने লিলহহ क्व॒ महापुरुषने पंय जो १॥ स्वेभावयी ओौदासीन्यं वृत्ति करी, मात्र देह ते संयम-हेतु होय जो; अन्य कारणे अन्य कष्चु कल्पे नहि › देहे पण किचित्‌ मूर्च्छा नव जोय जो ।२॥। दर्शनमोह व्यतीत थई उपज्यो बोध जे , देहसिन्न केवल चेतन्यनुं ज्ञान जो , एथी प्रक्षीण चारिन्रमोह विलोकीए , चत्त एवं शुद्धस्वरूपनुं ध्याव जो ॥३॥। आत्मस्थिरता प्रण॒ संक्षिप्त योगनी › मुर्यपणे' तो वर्ते देह पर्यन्त जो, घोर परिषह के उपसगे भये फरी, आदी शके नहि ते स्थिरतानो जन्त जो १४५ संयमना हेतुथी আম-সললনা? स्वरूपलक्षे জিল-লাজা জাদীন जो; ९३




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now