यूरोप - यात्रा | Yurope Yatra

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : यूरोप - यात्रा - Yurope Yatra

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about विट्ठलदास मोदी - Vitthaldas Modi

Add Infomation AboutVitthaldas Modi

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
प्राचीन सस्यत्ताके कद्र मिमं १५ वालोका तमाजणा देखने ल्गा। सीटीपर लगी वल्वोकी कतार और जगमग करती जहाजपरकी रोशनी दीपावलीका-सा भ्राभास दे रही थी ! उेकपरके संकडो यात्री सोटखोटपर उतरनेवाले यात्रियोका लड- खडाना-सभल्ना देखकर मुस्करा रहे थे 1 कुर यात्रियोके, जो पतीस थे, उतरनेमे श्राघा घटा खगा । उन्हे मोटरवोट केकर वढ चटी । जहाजकी रोशनी दूर हो गई श्रौर मोटरबौट श्रवकारके वेरेमे भ्रा गई । उसकी रास्ता देखनेकी श्राख विल्लीकी श्राख-सी ल्ग रही थी, जौ कभी जरती, कभी वुभती रास्ता खोज रही थी । इस समय हल्की ठडक हो गई थी, जो चलती हंवासे मिलकर वडी श्रच्छी ल्ग रही थी। | नी बजे मोटरवोट किनारेपर पहुची। हम लोम फाटकपर आये । वहा खडी पुलिस हमें गौरसे देख रही थी । पुलिसका एक গাহুমী तो लगता था जैसे किगकागका भाई हो, पूरा जिन्न। मेरा सिर तो उसके पेटके पासतक ही पहुचा। क्या यहा एसे श्रादमी वहत होगे ? घाटसे निकलनेपर काहिराके लिए यात्रा कारसे शुरू हुई । कारे काटी साफ समतल सउकपर भागने लगी । श्रारभके कु मकान तो हिदुस्तानके-से थे, पर वे शीघ्र ही समाप्त हौ गये श्रौर हम लोग एक नये वसे गहरमे श्रा गये--छोटी-छोटी दोमजिली श्रमरीकी शैटीकी उमारते, वडे-वडे मैदान, सडकके दौनो तरफ वृक्ष । यह्‌ सव कु पद्रह मिनटमे ही समाप्त हौ गया श्रौर हमारी कारं निर्जन स्थानमे दौडने र्गी । सवासी मीलकी यात्राकर हम रातके बारह बजे काहिरा पहुचे। काहिरा वबईका दूसरा भाई ही हे---अधिक सुकुमार, अधिक सुदर। सुकुमार इसलिए कि इसकी प्राय सभी इमारते नई है, और सुदर इसलिए कि इसकी हर खास सडकपर दोनों तरफ वृक्ष हे शौर जगह-जगह पार्क । सारा काहिरा जाग रहा था। सडको, वाजारो और दुकानोमे खूब चहल-पहल थी। काहिरामें बहुतसे नाइट क्लब हे। ये एक तरहके थियेटर है, जहा नाच-गाना होता रहता है। ये रातको एक-दो बजे बद होते हे, तभी काहिराके लोग सोते ই




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now