विश्वसभ्यता का संक्षिप्त इतिहास भाग - १ | Vishvasabhyata ka sankshipt itihas part 1

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
शेयर जरूर करें
Vishvasabhyata ka sankshipt itihas part 1 by विन्देश्वरी प्रसाद सिंह - Vindeshwari Prasad Singh
लेखक :
पुस्तक का साइज़ : 10.57 MB
कुल पृष्ठ : 458
श्रेणी :
हमें इस पुस्तक की श्रेणी ज्ञात नहीं है | श्रेणी सुझाएँ


यदि इस पुस्तक की जानकारी में कोई त्रुटी है या फिर आपको इस पुस्तक से सम्बंधित कोई भी सुझाव अथवा शिकायत है तो उसे यहाँ दर्ज कर सकते हैं |

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

विन्देश्वरी प्रसाद सिंह - Vindeshwari Prasad Singh

विन्देश्वरी प्रसाद सिंह - Vindeshwari Prasad Singh के बारे में कोई जानकारी उपलब्ध नहीं है | जानकारी जोड़ें |
पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश (देखने के लिए क्लिक करें | click to expand)
दे मनुष्य के साधन | 10पुणत जााटा। ) अपने हथियारों में सुधार लाकर हो मनुष्य अपने को जीवित रख सका हूँ और अपनी संख्या बढ़ाते रहा हैं । इनके जरिये ही वह बाहरी दुनियाँ के खतरों से अपने को बचाता हें था प्रकृति के भंडार से अपनी कमों की पुरति करता हैं । अपने इन हथियारों (वृर्णपृ-काटपाड) से हो बह प्रकृति से संघर्ष और सहयोग करता रहा हैं । अत्थेक जीव को जी विको- पार्जन के लिए अपनी रला करने के लिए साधन प्राप्त हैं । पर मनुष्य और प्ुओं के प्रसाधन में बहुत अन्तर है। पथ के हथिपार उसके वारोंर के अंग हैं. जिसे बह बरोर के साथ ही डोता हैं जेसे सिंह अपना पबणा खरहे व भालू अपन घने बाल । पर रूनष्य के साधन उसके शारोर के अंग नहीं है । उसे तो बाहरी हथियारों (10015) पर ही निर्भर करना हें । पु ओर मनुष्यों के इस बड़े अन्तर की तह में ही सम्यता को उत्पत्ति समझी जा सकती है। अपने साधनों को शरीर के साथ ही बराबर ढोते रहने के कारण पशु स्वेदा जाकमण करने के लिए च प्रत्याकमण रोकने के लिए तयार रहता है पर उसकी सबसे बड़ी कमजोरी यह हे कि वह परिस्थितियों के अनुसार अपने हथियार को न बदल सकता हें और न उनमें कोई बड़ा सुघार ला सकता हैं। इसक्तिए हाथों सिह से बराबर कमजोर ही रहेगा चहें बिल्ली का सामना कमी नहीं कर सक्तंग । ठंडे देश में रहनेवाले घने केशवालें खरहे गर्म देश में जीवित नहीं रह सकते क्योंकि वे अपने साधन को परिस्थिति के अनुकल न बदल सकतें है न छोड सकतें हैं । ऐसा सम्भव हैं कि आरम्भ में मनुष्य के भी खतरनाक नाखून व जहरोलें दाँत रहे हों । पर जब कि अन्य पत्ुओों के साधन आरम्भ से आजतक एऐक-से हीं रह गये है मनुष्य अपने उन न्यून शारीरिक हथियारों को भी छोडता रहा है और उसके स्थान पर वह नंये-तय हथिशार बसाते रहा हैं। पे ह्ियार उसके झरीर के अंग नहीं है इसलिए बह उसको जब चाहें प्रयोग करता हे जेब चाहे




  • User Reviews

    अभी इस पुस्तक का कोई भी Review उपलब्ध नहीं है | कृपया अपना Review दें |

    अपना Review देने के लिए लॉग इन करें |
    आप फेसबुक, गूगल प्लस अथवा ट्विटर के साथ लॉग इन कर सकते हैं | लॉग इन करने के लिए निम्न में से किसी भी आइकॉन पर क्लिक करें :