भारत के स्त्री - रत्न भाग - ३ | Bharat Ke Stri Ratna Part -iii

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : भारत के स्त्री - रत्न भाग - ३  - Bharat Ke Stri Ratna Part -iii

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about श्री पं. मदनमोहनजी मालवीय - Pt. Madan Mohan Ji Malviya

Add Infomation About. Pt. Madan Mohan Ji Malviya

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
११ सती अजना अपनी वीरता प्रदर्शित करने का सुअवसर देख; कुमार पवनजय युद्ध में जाने को कटिबद्ध हुआ | युद्ध के छिए जाते समय माता-पिता के चरणस्पर्श करके वह शख्तागार में गया । अरतना से मिलने तो वह क्यों जाने छगा था; अतः स्वयं अंजना ही उसके दर्शनों को वहाँ आ खड़ी हुई। परन्तु कठोर-हृदय पवनजग्र ने यहाँ भी उसका तिरस्कार दी किया । उससे वात करना तो दूर; उसने एक नज़र उसकी ठोर देखा तक नहीं, और रास्ते से उसे एक ओर ढकेलते हुए, वद्द आगे बढ गया । अरना के स्त्री-हृदय को इससे वड़ी चोट ठगी । युद्ध में जाते समय मिलना या एक नजर देखना तो दूर; उछटे सास-ससुर सब के सामने ऐसा तिरस्कार ! उसका मन छज्ञा ओर क्षोभ से विह्नल हो उठा। साख़िर प्रभु को ही एक-मात्र आधार मानकर उसने निश्चय किया--सदाचारपूर्वक अपना जीवन-यापन करूँगी और सयम का जत लेकर भगवान्‌ का नाम जपूँगी । उधर पवनजय अपने मंत्री प्रहसित के साथ सेना लेकर रावण को मदद को चढ दिया । मार्ग मे एक सरोवर के किनारे एक दिन उन्होंने अपना मुकाम किया। रात को किसी पक्षी की हृदयवेघक आवाज सुनकर राजकुमार चौंक पडा । उसने मंत्री से पूछा--“यह किसका स्वर है प्रहसित ?” “यह प्रदीप नदी के समीप है,” प्रहसित ने कहा; “इसलिए उसके दोनों तीरों पर चकवा-चकवी बोल रहे है।”




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now