महाभारतदर्प्पणे | Mahabharatdarppane Part- 2

5 5/10 Ratings.
1 Review(s) अपना Review जोड़ें |
Book Image : महाभारतदर्प्पणे - Mahabharatdarppane  Part- 2

लेखक के बारे में अधिक जानकारी :

No Information available about मुंशी नवलकिशोर - Munshi Nawalkishor

Add Infomation AboutMunshi Nawalkishor

पुस्तक का मशीन अनुवादित एक अंश

(Click to expand)
जि प पिर् ठफेंमुपर्घमबीलियेन। कार्मेदारिगकुरुनांथिकें/सुमितघलनमूष लिंरोटकिय स्पीकारे प्रीरतिफिरिनुपघरमपासविसेट बोलिेनेपकसी तमइहीं आये का हु सो मैं लिंएिन ॥गॉर्चेडि ष्टि यह अंपेनो संग शी था . या & कें संखेहि ः सुमामर्मतीसुफूल में मयेति बेयांध्रपर सेंधामिीसीकिं लौयों भसघुरन्घर दें । बित्लं ं येप्ण विशेष करिय हि वीं / बिरिठ जाओ क हुसतण्रं | यूतंप्रिय हमबदय तवतुम करहु शीक्षित ल्षिप्न ॥ देर्गिक्कषण नकें सँगीहोंये कबहैं प्रा बार मभपष कोसकरालिं अंग दी नही च र् 1




User Reviews

No Reviews | Add Yours...

Only Logged in Users Can Post Reviews, Login Now